ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान- बेरोजगारों के लिए बड़ी आशा

0
430

न्यूज चक्र @ कोटा
रावतभाटा रोड स्थित ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण  संस्थान (सेन्ट आर सेटी) कोटा में इन दिनों चल रहे ब्यूटी पार्लर मैनेजमेन्ट व बेसिक कम्प्यूटर प्रशिक्षण में 55 युवक-युवतियां अपने भविष्य को संवारने में लगी हुई हैं। इनका समापन 24 मई को होगा। आर सेटी के स्टेट डायरेक्टर आनंदी लाल ने भी गत दिनों यहां निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लेने के साथ प्रशिक्षार्थियों को आवश्यक जानकारियां भी दीं। संस्थान के निदेशक पीएन मूलचंदानी प्रशिक्षणों का सुव्यवस्थित संचालन कर रहे हैं। सभी प्रशिक्षार्थियों ने उन्हें मिल रहे प्रशिक्षण को उनके भविष्य के लिए बहुत लाभदायक बताया। साथ ही यहां की व्यवस्थाओं की भी सराहना की।

निदेशक मूलचंदानी ने बताया कि भारत सरकार द्वारा नियंत्रित एवं सेन्टल बैंक द्वारा संचालित ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान का उद्देश्य जिले के 18 से 45 वर्ष के गरीब व बेरोजगार युवक-युवतियों को नि:शुल्क प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार से जोड़ना है।
संस्थान में मिलता है इन ट्रेड का प्रशिक्षण
मोबाइल रिपेयरिंग (21 दिन), ब्यूटीशियन  ( 30 दिन)  ड्रेस डिजाइनिंग (21 दिन),  वैज्ञानिक विधि से डेयरी कौशल विकास (6 दिन), सॉफ्ट टॉय-टेडी बियर (15 दिन) फूड प्रोसेसिंग (6 दिन),  रैग्जीन बैग निर्माण ( 21 दिन) कम्प्यूटर बेसिक ( 30 दिन), कम्प्यूटर डाटा एंट्री    ( 30 दिन), वैज्ञानिक विधि से मधु मक्खी पालन (6 दिन) प्लम्बिंग एवं सेनेटरी वर्क्स (30दिन) डोमेस्टिक      एप्लायन्स मरम्मत (30दिन), मशरूम की खेती            ( 6 दिन) तथा  आर्टिफिशियल ज्वैलरी मेकिंग (10 दिन)।
इस तरह करें आवेदन
प्रशिक्षण के इच्छुक युवा अपनी रूचि के अनुसार किसी एक  ट्रेेड  का चयन कर संस्थान से नि:शुल्क आवेदन पत्र प्राप्त कर पंजीयन करवाएं। आवेदन के समय 3 फोटो, नाम, पता, पहचान पत्र एवं जन्म तिथि से सम्बन्धित कागजात जैसे-आधार कार्ड, बैंक खाता, राशन कार्ड, पहचान पत्र, स्कूल प्रमाण पत्र आदि साथ लेकर आएं।
नि:शुल्क आवासीय व भोजन व्यवस्था भी
मूलचंदानी ने बताया कि प्रशिक्षण का समय सुबह साढ़े नौ बजे से शाम छह बजे तक रहता है। इस अवधि में दो बार चाय व दोपहर का भोजन नि:शुल्क दिया जाता है।   प्रशिक्षण सामग्री सहित स्टेशनरी आदि भी उपलब्ध करवाई जाती है। किसी एक ट्रेेड में कमसे कम 30 आवेदकों का रजिस्ट्रेशन  न होने पर प्रशिक्षण प्रारम्भ होगा। इसकी सूचना प्रशिक्षण प्रारम्भ होने से पूर्व आवेदकों को फोन से दे दी जाएगी। प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षणार्थियों को व्यक्तित्व विकास, मार्केटिंग, व्यापार, प्रबंधन, बैंकिंग योजनाओं, ग्राहक सेवा सम्प्रेषण आदि की भी जानकारी दी जाती है। कोटा शहर से बाहर के प्रशिक्षणार्थियों के लिए आवास व भोजन की नि:शुल्क व्यवस्था रहेगी।
अधिकतर प्रशिक्षणार्थी लग चुके हैं रोजगार में
संस्थान के निदेशक मूलचंदानी ने न्यूज चक्र को यह जानकारी भी दी कि वर्ष 2007 से संचालित इस संस्थान में अभी तक विभिन्न ट्रेड में छह हजार युवक-युवतियों को   प्रशिक्षण दिया गया। इनमें से करीब चार हजार अर्थात 75 प्रतिशत प्रशिक्षणार्थी या तो अपना रोजगार कर रहे हैं या कहीं कार्यरत हैं। उन्होंने यह भी बताया कि संस्थान से प्रशिक्षण लेने वालों को विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत बैंकों से अनुदान पर लोन भी मिलता है। निदेशक ने यह भी बताया कि कोटा के अलावा अन्य जिलों में भी ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान संचालित हैं। उनमें भी इसी प्रकार से प्रशिक्षण दिया जाता है।