पेट्रोल पम्प मालिकों का साफ संदेश-हमें गड़बड़ करने से मत रोको

0
447

न्यूज चक्र @ कोटा

उत्तर प्रदेश से शुरू हुआ पेट्रोल पम्पों के हाईटेक गड़बड़झाले का खुलासा करने का अभियान राजस्थान में भी शुरू हुआ तो पेट्रोल पम्प संचालक एकजुट हो गए। गड़बड़ी मिलने पर कार्रवाई हुई तो हाड़ोतीभर में अनिश्चितकालीन हड़ताल की घोषणा कर दी।

गुरुवार को इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (आईओसी ) की टीम ने कोटा शहर के तीन पेट्रोल पम्पों पर भी जांच की। इसमें  एक पम्प पर 20 तो बाकी दोनों पर 10-10 मिली लीटर (एमएल) पेट्रोल की चोरी पकड़ी गई। इसके बाद आईएल फैक्ट्री के पास स्थित  शहीद भारत पारोलिया पेट्रोल पम्प सीज कर दिया गया। वहीं आगे की कार्रवाई में रंगबाड़ी स्थित शुभम फिलिंग स्टेशन की एक व कोटा यूनिवर्सिटी के पास स्थित तासी पम्प की दो यूनिट सीज की। इस कार्रवाई की भनक मिलते ही पेेेेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने रात 12 बजे से हाड़ोतीभर के पेट्रोल पम्प बंद किए जाने की घोषणा कर दी।

इस तरह चली आईओसी की कार्रवाई

आईओसी ने शहर में इस कार्रवाई की शुरुआत शहीद भारत परोलिया पेट्रोल पम्प से की। भवानी मीणा के नेतृत्व में यहां जांच की गई तो डीजल और पेट्रोल दोनों 5-5 लीटर पर 20 एमएल कम मिला। इस पर इस पम्प को पूरी तरह सीज कर दिया गया। रंगबाड़ी स्थित शुभम पेट्रोल पम्प पर भी 10 एमएल पेट्रोल की गड़बड़ी मिली। इस पर यहां भी एक यूनिट सीज कर दी गई।  तासी पम्प पर डीजल और पेट्रोल दोनों में 10 एमएल की गड़बड़ी मिली।इस पर यहां दो यूनिट सीज कर दी।

एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा-अवैध थी कार्रवाई

आईओसी की इस बड़ी कार्रवाई के विरोध में कोटा पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष तरुमीत सिंह बेदी ने जिला कलक्टर डॉ. रवि कुमार सुरपुर को ज्ञापन भेजा। इसमें कहा गया है कि 25 एमएल की कमी तो नियमानुसार है। शहीद भारत परोलिया सर्विस स्टेशन पर सभी मशीनें अनुज्ञा सीमा में थीं । उन पर नियमानुसार सभी सीलें लगी हुई थीं। नियम है कि पम्पों को दुबारा सत्यापित कराया जाए। इस पम्प को सिर्फ मशीनों के इंजीनियर्स की रिपोर्ट पर बंद कर दिया गया है।

एडीएम लेंगे बैठक

इस मसले पर एडीएम सिटी शुक्रवार दिन को 11 बजे पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन को मीटिंग के लिए बुलाया है। इसमें विवाद को सुलझाने की कोशिश होगी।  वहीं हाड़ोतीभर में बंद की घोषणा पर काफी पेट्रोल पम्पों के बंद होने से लोगों को परेशानी हो रही है। प्राइवेट पेट्रोल कम्पनियों के पम्पों से ही पेट्रोल-डीजल मिल रहा है।