सचिन को भी बीसीसीआई ने डिस्काउंट देने से इनकार किया

0
291

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) बिजनेस के मामले में भी सख्त है। उसकी इस सख्ती से महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी नहीं बच पाए हैं। बीसीसीआई ने उन्हे डिस्काउंट देने से मना कर दिया है। यह मामला है  उनकी बायोपिक ‘सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स’ का।

जानकारी के अनुसार सचिन की इस अपकमिंग बयोपिक ‘200 नॉट आउट’ की प्रॉडक्शन कंपनी ने बीसीसीआई से कुछ वीडियो फुटेज मांगे थे। वह इन वीडियोज की कॉस्ट में कुछ छूट चाहती थी, मगर बीसीसीआई ने साफ इनकार कर दिया।

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, बीसीसीआई ‘ 200 नॉट आउट’ की प्रॉडक्शन कंपनी को सचिन की रिटायरमेंट स्पीच यानी 3 मिनट 50 सैकंड का वीडियो तो फ्री में देने के लिए तैयार है, लेकिन अन्य फुटेज में छूट देने से राजी नहीं है। इसकी वजह बीसीसीआई के मुताबिक फुटेज का कमर्शियल इस्तेमाल होना है। वर्ल्ड रिकॉर्ड मैच खेलने वाले इस महान क्रिकेटर की फिल्म 26 मई को रिलीज होने वाली है। सचिन पर बनने वाली यह पहली फिल्म है।

धोनी को भी चुकाने पड़े थे करीब एक करोड़
ऐसा पहली बार नहीं है कि किसी क्रिकेटर को अपनी ही बैटिंग या किसी मैच की फुटेज के लिए पैसे चुकाने पड़े हों। इससे पहले महेन्द्र सिंह धोनी की बायोपिक ‘एमएस धोनी- द अनटोल्ड स्टोरी’ केे लिए सह-प्रॉड्यूसर अरुण पांडे को भी करीब एक करोड़ रुपए चुकाने पड़े थे।  धोनी से पहले पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने भी अपनी फुटेज के लिए पैसे चुकाए थे।

प्रति सैकंड के हिसाब से फुटेज की रेट 
बीसीसीआई से सम्बंधित कोई भी वीडियो फुटेज यूज करने या लाइब्रेरी से लेने के लिए प्रति सैकंड के हिसाब से रेट तय हैै। खास बात यह भी है कि वीडियो की कीमत मैच की अहमियत के अनुसार तय होती है। मतलब मैच जितना पॉपुलर होगा, उसके फुटेज की उतनी ही अधिक कीमत देनी होगी। बीसीसीआई ने इस सम्बंध में रेट कार्ड भी बना रखा है। इस बारे में ‘200 नॉट आउट’ के फाउंडर और सचिन की फिल्म के प्रॉड्यूसर रवि भगचंदका ने कहाा कि , हम बीसीसीआई के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। इसीलिए इस नॉन फिक्शन बायो ग्राफिकल फिल्म के लिए फुटेज के रेट कम करने की गुजारिश की हैै।