प्रिंसिपल और प्रोफेसर ही करते थे पेपर लीक, 12 जगह कार्रवाई, 8 गिरफ्तार

राजस्थान यूनिवर्सिटी और बीकानेर यूनिवर्सिटी के ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन पेपर का मामला, यूनिवर्सिटी के कन्वीनर व फ्लाइंग टीम के प्रोफेसर भी इस बड़े गौरखधंधे में शामिल

0
416

 

न्यूज चक्र @ जयपुर

राजस्थान यूनिवर्सिटी और बीकानेर यूनिवर्सिटी के ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के पेपर लीक करने वाले हाई  प्रोफाइल गिरोह का एसओजी ने पर्दाफाश कर शिक्षा जगत में खलबली मचा दी है। सोमवार को इस मामले में 12 जगह हुई कार्रवाई में सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल, प्रोफेसर, रिटायर्ड प्रोफेसर सहित 8 जनों को गिरफ्तार किया गया।

यह किया था आरोपियों ने

शिक्षा जगत के इस काले चेहरे को उजागर करने वाले सनसनीखेज मामले में सामने आया है कि आरोपियों ने समय-समय पर बीए, एमए (भूगोल), एबीएसटी, एम कॉम व बी कॉम के पेपर लीक किए थे।आरोपियों ने ये पेपर लीक करके अपने परिचितों व परिजनों को दिए। परिजनों ने ये पेपर अन्य परिचितों को दिए।

इन्हे किया गया गिरफ्तार

राजस्थान विश्वविद्यालय यूनिवर्सिटी के वाणिज्य विभाग के प्रफेसर गोविंद पारीक , भूगोल विभाग का एचओडी जगदीश जाट, रिटायर्ड प्रोफेसर बीएल गुप्ता, राजकीय महाविद्यालय खाजूवाला का प्रिंसिपल एनएन मोदी,  शंभूदयाल एसएससी पारीक गर्ल्स कॉलेज चौमूू का प्रोफेसर शंभूदयाल , अग्रसेन कॉलेज भादरा हनुमानगढ़ का प्रोफेसर कालीचरण शर्मा, मानसरोवर रमेश बुक डिपो का कर्मचारी शरद व बीकानेर निवासी निपुण मोदी गिरफ्तार  किए गए आरोपियों में शामिल हैैं। एसओजी देर रात तक आरोपियों से पूछताछ में जुटी रही। इस मामले अभी और कई गिरफ्ततारियाांं सम्भावित हैं । इस मामले में एसओजी ने अब तक चार मुकदमे दर्ज किए हैं। चार मुकदमे और दर्ज किए जाएंगे।

एेसे हुआ पर्दाफाश

एडीजी उमेश मिश्र ने बताया कि बीस दिन पहले एसओजी के आईजी दिनेश एमएन व एडिशनल एसपी पुष्पेन्द्र सिंह राठौड़ को राजस्थान यूनिवर्सिटी से पेपर लीक किए जाने की सूचना मिली थी। इसके बाद पुलिस अधिकार संजय क्षोत्रिय की टीम ने मामले की जांच की।इसमें सामने आया कि एग्जाम कन्वीनर अपने जानकारों से ही पेपर बनवा रहे हैं।फिर उन्हें अपने परिचितों को दे रहे हैं। मोदी कन्वीनर थे तो उन्होंने परिचित गोविंद पारीक से पेपर बनवा लिया। इस मामले में बांदीकुई में भी देर रात तक कार्रवाई जारी थी।

रिटायर्ड होने वाले  थे प्रोफेसर जाट, परिचित युवती को दिए पेपर

एसओजी की तहकीकात में सामने आया कि रिटायर्ड प्रोफेसर बीएल गुप्ता ने बीए भूगोल के पेपर तैयार किए थे। गुप्ता से भूगोल विभाग के एचओडी जगदीश प्रसाद जाट ने बीए प्रथम वर्ष भूगोल प्रथम का पेपर लेकर अपनी परिचित युवती नीरज को दिया था। इसके बाद भूगोल द्वितीय का पेपर भी किसी प्रोफेसर से लेकर नीरज को दिया गया। एसओजी ने इस सम्बंध में दो मुकदमे दर्ज किए हैं। एक प्रकरण में एसआेजी ने बीएल गुप्ता व जगदीश प्रसाद जाट को गिरफ्तार किया जा चुका है। युवती की भूमिका व दूसरे मुकदमे की जांच की जा रही है। आरोपी जाट दो माह बाद रिटायर्ड होने वाले थे। एसओजी अब इस बिंदू पर आराेपियों से पूछताछ कर रही है कि छात्रों से पैसे लेकर तो पेपर लीक नहीं किए गए।

 पेपर लीक कर बेटे को दिया, बेटे ने बुक डिपो के कर्मचारी को

एसओजी की तहकीकात में यह भी सामने आया है कि खाजूवाला राजकीय कॉलेज के प्रिंसिपल एनएस मोदी बीकानेर यूनिवर्सिटी के परीक्षा कंवीनर हैं। ऐसे में उन्हें पेपर तैयार करना था। लेकिन मोदी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी के वाणिज्य विभाग के प्रोफेसर  गोविंद पारीक को एमकॉम के पेपर तैयार करने के लिए कहा। पारीक ने भी पेपर खुद तैयार करने की जगह पारीक कॉलेज चौमू के प्रोफेसर शंभूदयाल झालानी से तैयार करवाए। इसके बाद 5 अप्रैल को मोदी ने गोविंद पारीक के माध्यम से झालानी के द्वारा तैयार किया गया एमकॉम का पेपर लेकर अपने बेटे निपुण को दे दिया। निपुण ने यह पेपर मानसरोवर रमेश बुक डिपो के कर्मचारी शरद को दे दिया। इसके बाद यही पेपर भादरा अग्रसेन कॉलेज के प्रोफेसर कालीचरण शर्मा ने परीक्षा के आधे घंटे पहले शरद को वापस दिया। शरद ने यह पेपर अपने और परिचितों को भी दे दिया था।

बांदीकुई में ऐसे चल रहा था गड़बड़झाला

  •  एसओजी को सोमवार को ही बांदीकुई में आयोजित बीकॉम तृतीय वर्ष के इनकम टैक्स विषय के पेपर लीक होने की सूचना मिली थी। इस पर वहां भी छापा मार कर कार्रवाई शुरू कर दी गई थी। पता चला है कि यहां एक कोचिंग इंस्टीट्यूट में लीक पेपर से परीक्षा से एक घंटे पहले तैयारी करवा दी जाती थी।