मृत घोषित नवजात दफनाए जाने के ठीक पहले रो पड़ी

0
389

न्यूज चक्र @ बून्दी
जिला चिकित्सालय के जनाना अस्पताल में मंगलवार सुबह जन्मी एक बालिका को डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। परिजन उसे दफनाने ही वाले थे कि वह रोने लगी। इस पर उसे तुरंत अस्पताल लाया गया। यह नजारा देख डॉक्टर सहित सम्बंधित चिकित्साकर्मियों के हाथ-पैर फूल गए। फिर उसे आईसीयू में भर्ती किया। वहां देर रात तक उसका इलाज जारी है।
गरनारा गांव निवासी पिन्टेश राठौर की पत्नी 27 वर्षीय दुर्गेश ने सुबह बेटी को जन्म दिया। परिजनों के अनुसार डॉ. लक्ष्मी मीणा व अन्य चिकित्साकर्मियों ने कुछ देर बाद उसे मृत घोषित कर वहां से ले जाने को बोल दिया। फिर उन्हेंं कपड़े में लपेट कर बालिका सौंप दी गई। सदमे से भरे हुए परिजन उसे छत्रपुरा शमाान लेकर पहुंचे। वहां नवजात को दफनाने के लिए गड्ढा खोद दिया गया। बस दफनाना ही बाकी था। इससे पहले रस्म के तहत परिजनों ने बच्ची का मुंह देखने के लिए उस पर से कपड़ा हटाया गया तो वह रो पड़ी। कुछ क्षण तो परिजन भौचक्के रह गए। फिर गम की जगह उनकी आंखों में खुशी के आंसू भर आए। मगर चिकित्साकर्मियों के गलत निर्णय से उनमें आक्रोश भी भर गया। वे जितनी जल्दी हो सकता था उसे लेकर अस्पातल पहुंचे। परिजनों के अनुसार डॉक्टर लक्ष्मी मीणा उनके आक्रोश को दबाने के लिए उलटे कहने लगीं कि मैंने कब कहा था इसे ले जाने के लिए। खैर आईसीयू में इलाज शुरू हुआ। सोशल मीडिया पर कुछ मिनट में ही मामला वायरल होकर सनसनी बन गया। बात जिला  प्रशासन तक पहुंची। तुरंत जिला कलक्टर नरेश  कुमार ठकराल ने जांच के लिए कमेटी गठित कर दी। इस पर चिकित्सा अधिकारियों का पक्ष भी सामने आया। पीएमओ डॉ. नवनीत विजय ने कहा कि आधे घंटे तक नवजात नहीं रोए तो उसे ब्रेन डेड मान लिया जाता है। वैसे भी वह प्रिमेच्योर डिलेवरी थी। साढ़े पांच महीने में ही पैदा हो गई थी। इसी प्रकार उप नियंत्रक डॉ.ओपी वर्मा ने कहा कि प्रिमेच्योर डिलेवरी थी। बच्ची को सांसें नहीं आ रहीं थीं। इसके बाद   नर्सिंगकर्मियों ने उसे अस्पताल से ले जाने को कह दिया। इसके बाद उसे सांसें आ गईं तो उसे आईसीयू में भर्ती कर दिया गया। बच्ची का वजन 350 ग्राम होने से उसका बचना मुश्किल है। मामले की जांच की जा रही है।

वहीं भाजपा मीडिया प्रकोष्ठ के जिला संयोजक अंचल राठौर ने इस मामले से सांसद ओम बिरला को अवगत कराने की बात कही। साथ ही मांग की कि सम्बंधित डॉक्टर को तुरंत निलम्बित किया जाए।