रजत की प्रथम पुण्यतिथि पर होंगे विभिन्न आयोजन

हत्या का खुलासा नहीं होने से ग्रामीणों व परिजनों में भारी आक्रोश

0
902
RAJAT SHARMA (file photo)

न्यूज चक्र @ बून्दी

ग्राम पंचायत माटूंदा के सरपंच महेन्द्र शर्मा के पुत्र रजत शर्मा की पहली पुण्यतिथि के अवसर पर 21 मार्च( मंगलवार )को गांव में ब्लड डोनेशन व श्रद्घांजलि सभा सहित विभिन्न आयोजन किए जाएंगे। स्व. रजत शर्मा मेमोरियल समिति के संयोजक श्याम सुंदर राठौर ने यह जानकारी दी।
राठौर ने बताया कि सोमवार को समिति की बैठक आयोजित कर कार्यक्रमों की तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया। इसके अनुसार दोपहर एक बजे से गांव के वैष्णो देवी मंदिर प्रांगण में ब्लड डोनेशन कैम्प शुरू होगा। इसमें बड़ी संख्या में रजत के मित्रों व परिचितों सहित ग्रामीण तथा परिजन भी रक्तदान करेंगे। इसके बाद शाम चार बजे यहीं पर श्रद्घांजलि सभा का आयोजन किया जाएगा। इससे पूर्व सुबह विभिन्न गौशालाओं के लिए चारा भेजा जाएगा। साथ ही गरीब बच्चों को फल वितरण भी होगा। बैठक में माटूंदा सहकारी समिति अध्यक्ष केवल कृष्ण शर्मा सहित सुखपाल गुर्जर, देवीलाल मेवाड़ा, नरेन्द्र हाड़ा, हेमंत पांचाल आदि मौजूद थे।
मौत की सच्चाई सामने नहीं आने से भारी आक्रोश
उल्लेखनीय है कि 23 वर्षीय रजत आईडीबीआई बैंक की बून्दी शाखा में काम करता था। गत वर्ष 21 मार्च की रात्रि आठ बजे बाद वह बून्दी से करीब सात किलोमीटर दूर स्थित अपने गांव के लिए रवाना हुआ था। मगर कुछ ही देर बाद परिजनों को उसका शव बीच रास्ते पर पड़ा होने की सूचना मिली। पास ही में उसकी बाइक भी पड़ी हुई थी। रजत के सिर सहित शरीर पर अन्य जगह भी गम्भीर घाव थे। जो प्रथमदृष्टया ही किसी धारधार हथियार से उसकी हत्या किए जाने की गवाही दे रहे थे। इस हादसे से परिवार में ही नहीं पूरे गांव में हाहाकार मच गया था। ग्रामीणों में बेहद लोकप्रिय सरपंच महेन्द्र शर्मा के पुत्र की इस आकस्मिक मौत पर कोई भी विश्वास नहीं कर पा रहा था। उस समय पुलिस कभी इस मौत को हत्या तो कभी दुर्घटना का मामला बता कर जांच में उलझी रही। तत्कालीन सदर थानाधिकारी अनीस अहमद तो इसे पूरी तरह दुर्घटन का मामला ही सिद्घ करने पर अड़े रहे। मगर सरपंच व वरिष्ठ भाजपा नेता पिता महेन्द्र शर्मा के प्रयासों से बाद में पुलिस ने इस पर हत्या के एंगल से भी सोचना शुरू किया। मगर बेहद अफसोसनाक बात है कि एक साल बाद भी पुलिस इस मामले में कोई परिणाम देने की बात तो दूर कोई सुराग तक नहीं लगा पाई है। इस केस को शुरू से ही दुर्घटना करार देने वाली पुलिस इसे दुर्घटना भी सिद्घ नहीं कर पाई। इससे परिवारजनों सहित मित्रों व ग्रामीणों में भारी आक्रोा है। उनकी राज्य सरकार से मांग है कि किसी सक्षम अधिकारी से इसकी जांच करवा सच्चाई सामने लाई जाए। पहले भी इस मामले में आंदोलनात्मक कदम उठा चुके ग्रामीणों को कहना है कि अन्यथा आगामी रणनीति तैयार करनी पड़ेगी। प्रतिभावान रजत राजस्थान की जूनियर क्रिकेट टीम की ओर से रणजी मैच खेल चुका था ।