कोटा स्टेशन पर वाराणासी की महिला को नशीला पदार्थ पिलाकर लूटा, जीआरपी जवान पर आरोप

0
621

न्यूज चक्र @ कोटा 

उत्तर प्रदेश के वाराणासी जिले की एक महिला गुरुवार देर रात रेलवे स्टेशन के बाहर अचेत हालत में मिली। उसके साथ एक पुत्र और पुत्री भी थे। एमबीएस अस्पताल में शुक्रवार सुबह होश आने पर उसने रेलवे पुलिस के ही जवान पर उसे कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ पिलाकर उसके बैग में रखे रुपए निकाल लेने का सनसनीखेज आरोप लगाया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
भीमगंजमंडी थाना पुलिस के अनुसार गुरुवार रात करीब डेढ़ बजे अपने दो बच्चों के साथ रेलवे स्टेशन से बाहर निकली एक महिला कुछ दूरी पर ही अचेत होकर गिर पड़ी। बाद में इसकी पहचान वाराणासी जिले के सीसवा थाना क्ष्ोत्र के मशगवा लाला निवासी पिंकी (30)पत्नी राजेश उपाध्याय के रूप में हुई। बच्चों के नाम सिद्धांत (7) व शेरिया उर्फ खुशी (6) हैं। उसके अचेत होने पर बच्चों ने शोर मचाया तो वहां लोग जमा हो गए। स्टेशन के बाहर का यह एरिया भीमगंजमंडी थाना क्षेत्र में आता है। इसलिए सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और महिला को एमबीएस अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उपचार के बाद सुबह उसे होश आ गया। पिंकी ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि वह अपने ससुराल से पीहर जाने के लिए देर रात मुम्बई सुपर फास्ट से कोटा स्टेशन पहुंची थी। यहां से उसे आगे जाने के लिए गाड़ी बदलनी थी। उस ट्रेन के इंतजार में वह बच्चों के साथ स्टेशन पर बैठी हुई थी कि जीआरपी का एक जवान उसके पास आया। वह बच्चों से व उससे बात करते हुए उन्हें केंटिन में ले गया। वहां उसने बच्चों को तो खाने के लिए टॉफी दे दी, वहीं उसे कोल्ड ड्रिंक पिलाया। कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद से ही उस पर गहरा नशा छाने लगा। इसके बाद वह जीआरपी जवान वहां से चला गया। वह किसी प्रकार बच्चों के साथ स्टेशन के बाहर आई और अचेत होकर गिर पड़ी। उसने बैग में रखे सात-साढ़े सात हजार रुपए गायब होने की बात भी कही है। पिंकी का पति राजेश वाराणासी में ही किसी होटल पर खाना बनाने का काम करता है। पुलिस ने उसके परिजनों को सूचित कर दिया। इस पर वे उसे लेने के लिए रवाना हो गए। रेलवे पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। पीड़िता का यह भी कहना है कि जीआरपी जवान बाद में वर्दी चेंज कर सामान्य कपड़ों में भी उसके पास आया था। यह भी पता लगाया जा रहा है कि जीआरपी की वर्दी में कहीं किसी और व्यक्ति ने तो इस वारदात को अंजाम नहीं दिया।