निगम की क्वालिटी कंट्रोल लैब शुरू नहीं होने से निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर सवाल

हाड़ौती गार्डन के एक हॉल में स्थापित लैब शुरू होने का इंतजार, निगम द्वारा करवाए जाने वाले निर्माण कार्यों की गुणवत्ता की जांच नहीं हो पा रही

0
303

न्यूज चक्र @ कोटा
क्वालिटी कंट्रोल लैब शुरू नहीं होने से नगर निगम द्वारा करवाए जा रहे निर्माण कार्यों की गुणवत्ता की जांच नहीं हो पा रही है। हालांकि हाड़ौती गार्डन के हॉल में स्थापित लैब में सभी उपकरण इंस्टाल कर दिए गए हैं। मगर वे अनुपयोगी साबित हो रहे हैं।
गौरतलब है कि नगर निगम के पुराने भवन में स्थापित क्वालिटी कंट्रोल लैब 5-6 साल से बंद पड़ी थी। कम्प्रेसिव टेस्ट मशीन, बिटुमिन टेस्ट मशीन आदि मशीनें पूरी तरह खराब हो चुकी थीं। निगम ने इसे चालू करने की कवायद शुरू करते हुए लैब में लगे पुराने उपकरणों को ठीक करवाया। साढ़े तीन लाख से अधिक रुपयों से नई मशीनें भी खरीदी गईं। मगर अड़चन यह आ गई कि जिस पुरानी बिल्डिंग में लैब थी, उसे दशहरा मैदान कÞ जीर्णोद्धार योजना के तहत तोड़ा जाना था। इस पर नई जगह की तलाश शुरू की गई। इसके बाद निगम प्रशासन ने हाड़ौती गार्डन में बेकार पड़े हॉल में क्वालिटी लैब शुरू करने का निर्णय लिया। इसके लिए निगम के तत्कालीन एसई भूपेन्द्र माथुर ने वहां निरीक्षण किया। उन्होंने वहां पर पड़े कबाड़ को हटवा, मरम्मत व रंग-रोगन करवाकर शीघ्र लैब चालू करने की बात कही थी। निगम की निर्माण समिति के अध्यक्ष रमेश चतुर्वेदी ने बताया कि हॉल की साफ-सफाई करवाने के बाद रंग-रोगन का कार्य करवाया जा चुका है। लैब इस माह शुरू हो जाने की संभावना है। वहीं निगम के एसई प्रेमशंकर शर्मा ने बताया कि हाड़ौती गार्डन के एक हॉल में जांच के लिए आवश्यक सभी उपकरण स्थापित कर दिए गए हैं। इस माह में लैब शुरू कर दी जाएगी।