कोटा पर्यटन विकास समिति की बैठक: सिर्फ निर्देश दिए, मगर कोई समय सीमा निर्धारित नहीं

सवाल यही कि, ऐसी औपचारिक बैठकों के क्या कुछ नतीजे निकलते हैं?

0
887

न्यूज चक्र @ कोटा

अतिरिक्त जिला कलक्टर बिहारी लाल मीणा ने चन्द्रेसल शिवमठ, शहर के परकोटे व दरवाजों के सौन्दर्यीकरण के लिए उनके वर्तमान स्वरूप को छेड़े बिना उनकी मरम्मत कराने के प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। साथ ही ऐतिहासिक दरवाजों पर स्थानीय शैली की चित्रकारी करवाकर उनके रखरखाव के लिए संस्थाओं को प्रेरित किए जाने की आवश्यकता भी जताई। मीणा मंगलवार को टैगोर सभागार में आयोजित जिला पर्यटन विकास समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। एडीएम मीणा ने स्थानीय पर्यटक स्थलों के भ्रमण के लिए नगर निगम द्बारा तैयार कराई जा रही बस को पर्यटक स्थलों के चित्रों से सुसज्जित करने, किशोर सागर में नौकायन व वाटर स्पोर्ट गतिविधि को बढ़ावा देने व दशहरा मेले को अन्तरराष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए अग्रेसिव मार्केटिग अपनाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि कोटा में पर्यटन की विपुल संभावनाएं हैं। यहां के ऐतिहासिक धरोहरों के संरक्षण व सौन्दर्यीकरण के साथ ईको ट्यूरिजम के लिए भी मिलकर प्रयास करने होंगे। समिति के सदस्य प्रताप सिह तोमर ने घड़ियाल सेन्चुरी के लिए चन्द्रेसल नदी को विकसित करने, कोटा के प्रमुख मार्गों के सूचनात्मक बोर्डों पर फ्लेक्स व बैनर लगाने वालों के खिलाफ कार्यवाही करने व ऐतिहासिक दरवाजों के रखरखाव के लिए प्रस्ताव बनाने व ज्वालातोप के पास से अतिक्रमण हटाने का सुझाव दिया। इन्टेक के एसएस झा ने ऐतिहासिक धरोहरों को बचाए रखने के लिए दीवार व बुर्जों पर रखरखाव के साथ पेन्टिंग करने का सुझाव भी दिया। नगर निगम के अधीक्षण अभियंता प्रेमशंकर शर्मा ने बताया कि पर्यटकों के लिए इसी माह दो बसें तैयार कर कोटा के सभी ऐतिहासिक स्थानों के भ्रमण का प्लान बनाया जा रहा है। उन्होंने बुर्ज व रियासतकालीन परकोटे के रखरखाव के लिए चिह्नि्त स्थानों के प्रस्ताव बना लिए गए हैं। नगर विकास न्यास के अधिशाषी अभियंता अनिल गालव ने किशोर सागर में पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रस्तावित कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बोट रेस्टोरेंट के लिए भी नगर विकास न्यास ने प्रस्ताव तैयार कर सरकार को भिजवाया है। सहायक पर्यटन अधिकारी संदीप श्रीवास्तव ने बताया कि जिले में ईको ट्यूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। वन विभाग के साथ मिलकर चम्बल में वाटर स्पोर्ट व नौकायन तथा मुकुन्दरा नेशनल पार्क में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कार्य योजना बनाई जा रही है। उन्होंने सभी पर्यटक स्थलों को दर्शाने वाले साइन बोर्ड लगवाने की भी जानकारी दी। बैठक में जलबिरादरी के बृजेश विजयवर्गीय सहित संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।