मदरसा पैराटीचर्स ने रैली निकाल नियमित किए जाने की मांग उठाई

0
1097

न्यूज चक्र @ कोटा
मदरसा शिक्षा सहयोगी संघ की ओर से सोमवार को पैरा टीचरों को नियमित करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर रैली निकाल जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। सभी पैराटीचर सामूहिक अवकाश पर रहे।
यह रैली सर्किट हाउस से शुरू होकर कलक्ट्रेट पहुंची। इसमें बड़ी संख्या में महिला-पुरुष मदरसा पैराटीचर्स शामिल थ्ो। इनके हाथों में पूरा भत्ता पूरा काम, हम अपना अधिकार मांगते, नहीं किसी से भीख मांगते, मदरसा बोर्ड को संवैधानिक दर्जा दो, वादा खिलाफी बंद करो, वेतन विसंगति दूर करो, मदरसा टीचरों को सम्मान से जीने का अधिकार दो, मदरसा टीचरों को स्थाई करो जैसे नारे लिखी तख्तियां थीं। कलक्ट्रेट पर पहुंच कर यह रैली धरने में बदल गई। इसे संबोधित करते हुए संघ के जिला अध्यक्ष इरशाद अहमद अंसारी ने कहा कि तीन साल से लगातार सरकार से नियमितीकरण की मांग की जा रही है। मगर सुनवाई नहीं हो रही है। इसी के चलते प्रदेशभर के पैर टीचरों ने सामूहिक अवकाश पर रहकर जिला मुख्यालयों पर रैलियां निकाल व धरना देकर सरकार के नाम ज्ञापन दिया है। ताकि सरकार तक उनकी पीड़ा पहुंच सके। जिला कलक्टर को ज्ञापन देने वाले प्रतिनिधि मंडल में इशरत अली, सबीर हुसैन अंसारी, शरीफ खान, परवेज अख्तर, जफरुल इस्लाम, अमजिदा, हुमा कुरैशी व जीनत शामिल थीं।
नेताओं ने पहुंच कर समर्थन दिया
मदरसा पैरा टीचर्स के धरना स्थल पर पहुंच कर कांग्रेस के प्रदेश सचिव पंकज मेहता व आम आदमी पार्टी नेता मोहम्मद हुसैन ने उन्हें अपना समर्थन दिया। साथ ही संगठन के स्तर पर मदरसा पैरा टीचर्स के हित में आन्दोलन में सहयोग करने का वादा किया। हुसैन ने कहा कि भाजपा सरकार ने ही 2००5 में 135० पैरा टीचरों को स्थाई किया था। अब भी भाजपा की ही सरकार है और मुख्यमंत्री भी वही हैं। ऐसे में अब भी उन्हें पहले जैसा फैसला लेने में हिचक नहीं होनी चाहिए।
बजट में नहीं हुई मांगें पूरी तो प्रदेशभर में आंदोलन
मदरसा पैरा टीचर्स के सम्भागीय अध्यक्ष अनवर खान ने कहा कि मदरसा पैरा टीचर्स की मांगों को राज्य के घोषित होने वाले बजट में पूरा नहीं किया गया तो प्रदेशभर में मदरसा पैरा टीचर्स सरकार के खिलाफ उग्र आन्दोलन करेंगे।
मदरसा पैरा टीचर्स की प्रमुख निम्न प्रकार हैं-
1. राज्य सरकार समस्त मदरसा पैरा टीचर्स के लिए शीघ्र विद्यालय सहायक भर्ती की वरीयता सूची जारी करे व प्रबोधक भर्ती निकल कर नियमित करे।
2. जब तक मदरसा पैरा टीचर्स नियमित ना हों तब तक मदरसा पैरा टीचर्स को तृतीय श्रेणी अध्यापक के समान वेतन दिया जाए।
3.छठे चरण के मदरसा पैरा टीचर्स का मानदेय सीधे उनके खाते में भुगतान किया जाए ।