कैटल गार्ड की हत्या के आरोपी दम्पती सहित पांच जनों को आजीवन कारावास

0
451

न्यूज चक्र @ बून्दी
जिला एवं सत्र न्यायधीश अशोक व्यास ने करीब चार साल डाबी थाना क्षेत्र में वनकर्मी की हत्या व गम्भीर मारपीट सहित राजकार्य में बाधा डालने के मामले में एक दम्पति सहित सहित पांच आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। साथ ही इन पर छह-छह हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया। इसके अलावा प्रत्येक आरोपी से चालीस-चालीस हजार रुपए वसूल कर कुल राशि दो लाख रुपए मृतक के परिजनों को देने के आदेश भी दिए।

लोक अभियोजक भूपेन्द्र सहाय सक्सेना ने बताया कि 17 अप्रैल 2013 को डाबी थाना क्षेत्र के बड़पू गांव में तैनात कैटल गार्ड शायर सिंह व अन्य वनकर्मी धीरेन्द्र सिंह को अवैध खनन की जानकारी मिली थी। इस पर वे बड़पू तालाब के पास पहुंचे तो कुछ लोग ट्रैक्टर लेकर भागते दिखाई दिए। थोड़ा आगे जाते ही उनका ट्रैक्टर तालाब के कीचड़ में फंस गया। इसी के साथ आरोपियों रामस्वरूप गुर्जर व इसकी पत्नी कैलाश बाई सहित दुर्गाशंकर गुर्जर, पप्पू गुर्जर व गणेशराम मेघवाल सभी गोपालपुरा निवासी ने दोनों वनकर्मियों पर लकड़ियों से हमला कर दिया। इससे सिर पर गम्भीर चोट आने से शायर सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं धीरेन्द्र सिंह भी गम्भीर घायल हो गया। वह किसी प्रकार वहां से जान बचाकर भागा व थाने में पहुंच कर रिपोर्ट दी। इसके आधार पर पुलिस ने अनुसंधान कर कोर्ट में पांचों आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र पेश किया। इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से अदालत में 25 गवाह पेश करने के साथ 532 दस्तावेज प्रदर्शित किए गए। वहीं बचाव पक्ष ने तीन गवाह पेश किए। ट्रायल में जिला एवं सत्र न्यायाधीश व्यास ने पांचों आरोपियों को हत्या, गम्भीर मारपीट व राजकार्य में बाधा का दोषी पाने के बाद सजा सुनाई।