अब इस थाने में गाली-गलौच तक नहीं कर सकेंगे पुलिसकर्मी

0
376

न्यूज चक्र @ जोधपुर

नागौर जिले का थांवला पुलिस स्टेशन अब पूरी तरह पारदर्शी हो गया है। इससे जहां पीड़ित आमजन को लाभ होगा, वहीं यह पुलिसकर्मियों की थोड़ी मुसीबत बढ़ जाएगी।

आमतौर पर  यह शिकायत रहती है कि थाने में पुलिसकर्मी अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं। पीड़ित जब शिकायत दर्ज करवाने जाता है तो उससे रिश्वत मांगी जाती है। कई बार पुलिस अपराधियों के साथ बुरी तरह मारपीट भी करती है। इन्हीं कारणों से समाज में पुलिसकर्मियों व थानों की छवि बेहद खराब है। इन शिकायतों के मद्देनजर ही नागौर के एसपी परिस देशमुख अनिल की पहल पर थानाधिकारी महावीर सिंह ने थांवला पुलिस स्टेशन पर जनसहयोग से सात सीसीटीवी कैमरे और माइक्रोफोन लगवा दिए हैं। यह कैमरे और माइक्रोफोन थानाधिकारी के कक्ष से लेकर प्रवेश द्वार तक लगे हैं। थानाधिकारी महावीर सिंह का कहना है कि थाना परिसर का ऐसा कोई स्थान नहीं है जहां कैमरे की नजर नहीं है। थाने के मुंशी के कमरे में भी जो आपसी संवाद होगा, उसकी भी रिकार्डिंग अपने आप हो जाएगी यानि अब थांवला पुलिस थाना पूरी तरह पारदर्शी हो गया है। महावीर सिंह ने कहा कि एसपी ने सीसीटीवी कैमरे लगाने की जो पहल की है, उस पर थाने के किसी भी कर्मचारी को एतराज नहीं है क्योंकि थांवला के स्टेशन पर पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ काम होता है। थाने पर जो फरियादी आता है उसकी भी नियमों के अनुरूप मदद की जाती है। उन्होंने कहा कि कोई भी नागरिक आकर थांवला थाने के कामकाज की जांच पड़ताल कर सकता है। नागौर के एसपी का कहना है कि अब जिले भर के पुलिस स्टेशनों पर थांवला जैसी व्यवस्था होगी।