हाफिज सईद सदमे में, कहा- मोदी के दबाव के चलते देखना पड़ा यह दिन

0
428

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
भारत के कट्टर दुश्मन हाफिज सईद को अपने घर पाकिस्तान में इस बार की नजरबंदी से अब अपना अंत करीब लगने लगा है। यहां तक कि उसके चेहरे पर हमेशा बरकरार रहने वाली धूर्ततापूर्ण चमक भी फीकी हो गई है। हालांकि वह जहर तो अब भी उगल रहा है, मगर लफजों में पहले जैसी ठसक नहीं है। नजरबंद होने के बाद हताश हाफिज ने कहा – ट्रम्प पर मोदी के दबाव के कारण ऐसा हुआ है। हमारी तो अमेरिका से कोई दुश्मनी नहीं है, सिर्फ भारत से है। यहां गौरतलब है कि वह पहले  तो गाहे-बगाहे अमेरिका को भी लफजों से निशाना बनाता रहता था।
नजरबंद होने से पहले व बाद में हाफिज सईद की ओर से सोशल मीडिया पर कई ट्वीट और वीडियो डाले गए। इनमें से ज्यादातर भारत-अमेरिका और पीएम मोदी-डोनाल्ड ट्रम्प को लेकर हैं। सभी ट्वीट में उसने भारत के खिलाफ जहर उगला है।
गौरतलब है कि लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख एवं मुम्बई हमले सहित भारत में होने वाली अधिकतर आतंकवादी वारदातों के मास्टर माइंड हाफिज सईद को सोमवार रात पाकिस्तानी अधिकारियों ने हिरासत में लेकर छह माह के लिए नजरबंद कर दिया है। अमेरिका ने पाकिस्तान को चेतावनी दी थी कि जमात-उद-दावा के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने पर अन्य सात मुस्लिम देशों की तरह पाकिस्तान पर भी प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। माना जा रहा है कि यह कार्रवाई उसी का असर है। हाफिज सईद लश्कर-ए-तैयबा के साथ जमात-उद- दावा का भी प्रमुख है

पता चल गया था कार्रवाई होने वाली है

नजरबंदी से कुछ घंटे पहले सईद ने कहा कि था कि अगर ‘दबाए हुए कश्मीरियों’ की आवाज उठाने पर उसके संगठन पर किसी तरह का अंकुश लगाया जाता है तो उसे कोई परवाह नहीं है। उसने नवाज शरीफ सरकार को चतावनी भी दी थी कि अंकुश लगने पर उसका संगठन अदालत जाएगा। साथ ही कहा है कि अगर उसे गिरफ्तार किया गया तो भी लाखों लोग कश्मीर के लिए आवाज उठाते रहेंगे। अगर कश्मीर के खिलाफ बोलना अपराध है तब भी वह ऐसा करता रहेगा। अपनी भड़ास वह ट्विटर के माध्यम से निकाल रहा है।