ट्रम्प से डरा पाकिस्तान, मुम्बई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद नजरबंद

0
295

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क / नई दिल्ली

पाकिस्तान सरकार ने सोमवार रात लश्कर-ए-तैयबा के चीफ हाफिज सईद को नजरबंद कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात की जानकारी दी गई है। हालांकि, नवाज शरीफ सरकार ने इस बारे में अभी तक इस संबंध में अधिकारिक बयान जारी नहीं किया है। पाकिस्तान के एआरवाय चैनल के मुताबिक, सईद को यूएस के नए प्रेसिडेंट डोनाल्फ ट्रम्प के डर से नजरबंद किया गया है।
गौरतलब है कि आज दोपहर को ही पाकिस्तान के होम मिनिस्टर चौधरी निसार अली खान ने मीडिया से कहा था कि जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद को अमेरिका ने आतंकी घोषित किया हुआ है। खान ने यह भी कहा था कि पाकिस्तान सईद पर 2010 से ही नजर रख रहा है। खान ने इसी के साथ यह भी कहा कि जमात साफ तौर पर बैन ऑर्गनाइजेशन है। यूएन सिक्युरिटी काउंसिल भी उसे बैन कर चुका है। सरकार को उसके खिलाफ एक्शन लेना ही होगा। चौधरी ने कहा था कि सईद के खिलाफ लंबे वक्त से एक्शन पेंडिग है। यूएस प्रेसिडेंट ट्रम्प के बारे में पूछे गए एक सवाल पर खान ने कहा कि ट्रम्प के निशाने पर वो लोग हैं जो टेरेरिज्म के शिकार हुए हैं।
ट्रम्प के डर से पाकिस्तान ने लिया एक्शन
पाकिस्तान का मीडिया इसे ट्रम्प सरकार के डर से उठाया गया कदम बता रहा है। गौरतलब है कि अमेरिका ने सात मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में आने पर बैन लगा दिया है। इसी क्रम में अमेरिका से पाकिस्तान के खिलाफ भी ऐसा ही एक्शन लेने का संकेत दे दिया गया था। ट्रम्प चुनाव से पूर्व ही साफ कर चुके थ्ो कि वे प्रेसिडेंट बनने पर आतंकवाद फैलाने वाले देशों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
यह है हाफिज सईद
हाफिज सईद मुम्बई के 26/11 के हमलों का मास्टर माइंड है। इस हमले में 6 अमेरिकियों सहित 166 लोग मारे गए थे। भारत पाकिस्तान से उसे सौंपने की कई बार मांग कर चुका है। इस संबंध में कई सबूत भी उसे सौंपे जा चुके हैं।
इसके अलावा सिर्फ मुम्बई ही नहीं भारत और अफगानिस्तान में हुए कई हमलों में भी हाफिज सईद का हाथ साबित हो चुका है, लेकिन पाकिस्तान इससे इनकार करता रहा है।अमेरिका ने इंटरनेशनल टेरेरिस्ट की जो लिस्ट जारी की थी, उसमें भी सईद का नाम शामिल था। अमेरिका ने उस पर एक करोड़ डॉलर का इनाम भी घोषित कर रखा है। उसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया हुआ है।

सांसद ने पूछा था हमने सईद को क्यों पाला, वो कौन से अंडे देता है

पिछले साल अक्टूबर में नवाज शरीफ की पार्टी के ही एक सांसद ने हाफिज सईद को लेकर पीएम को खूब खरी-खोटी सुनाईं थी। पीएमएल-एनके सांसद राणा मोहम्मद अफजल ने संसद की एक कमेटी की मीटिग में पूछा था, ”हाफिज सईद और बाकी नॉन स्टेट एक्टर्स पर एक्शन क्यों नहीं लिया जाता? कोई बताए, आखिर हाफिज सईद ऐसे कौन से अंडे देता है, जिसकी वजह से हमने उसे पाल रखा है?’’
हर बार हाफिज का ही नाम क्यों सामने आता है
नेशनल असेंबली की फॉरेन अफेयर्स कमेटी की मीटिग में पाकिस्तान के दुनिया में अलग-थलग पड़ते जाने पर चर्चा हुई थी। राणा ने मीटिग में हाफिज सईद जैसे नॉन स्टेट एक्टर्स पर सख्त एक्शन की मांग की थी। राणा हाफिज इस मुद्दे पर अपनी ही सरकार के रवैये से बेहद खफा थे। राणा ने कहा था ”हमारी फॉरेन पॉलिसी के ये हाल हो गए हैं कि हम आज तक हाफिज सईद जैसे लोगों को खत्म नहीं कर पाए हैं। भारत उसका मसला हमें घेरने के लिए उठाता है। फॉरेन डेलिगेशन भी उसे भारत और पाकिस्तान बीच तनाव की सबसे खास वजह बताते हैं।’’ उन्होंने फ्रांस के हालिया दौरे का जिक्र करते हुए कहा था कि वहां लोगों ने कश्मीर के हालात पर बात की। ये भी पूछा कि हाफिज का नाम ही हर बार सामने क्यों आता है?