रसद विभाग का अधिकारी दस हजार रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार

भ्रष्टाचार रोकने के लिए जिम्मेदार अधिकारी ही निकला भ्रष्ट। हुलिये से कट्टर मजहबी व उसूलों का पालन करने वाला, मगर हकीकत बिलकुल उलट।

0
757

न्यूज चक्र @ कोटा
रसद विभाग बूंदी के प्रवर्तन अधिकारी इरफान कुरैशी को एसीबी की टीम ने शुक्रवार को बोरखेड़ा स्थित निवास स्थान से एक राशन डीलर से दस हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। हुलिये से कट्टर मजहबी व उसूलों का पालन करने वाले नजर आ रहे कुरैशी की यह हकीकत काफी चर्चा का विषय बन गई है।
गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व बूंदी रसद विभाग ने जिले के डाबी कस्बे में स्थित एक राशन की दुकान की जांच की थी। वहां तय मात्रा चालीस क्विंटल से अधिक गेहूं पाया गया था। इस पर डीलर सत्यनारायण के खिलाफ विभाग में कार्यवाही जारी थी। सत्यनारायण के आरोप के अनुसार विभाग के प्रवर्तन अधिकारी कोटा के बोरखेड़ा निवासी इरफान कुरैशी ने मामले को दबाने के लिए उससे 25 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। मगर बाद में मामला 10 हजार रुपए में तय हो गया। सत्यनारायण ने इस बात की शिकायत एसीबी में कर दी। इस पर एसीबी के अधिकारियों ने शिकायत का सत्यापन करने के बाद कार्रवाई की योजना बनाई। इसी के तहत सत्यनारायण ने कुरैशी से बात की तो उसने रुपए देने के लिए अपने घर बुला लिया। सत्यनारायण एसीबी के द्वारा विशेष रंग लगाए हुए दो-दो हजार रुपए के पांच नोट लेकर कुरैशी के घर पहुंचा। जैसे ही उसने सत्यनारायण से नोट लिए, संकेत पाते ही एसीबी की टीम ने उसे दबोच लिया। साथ ही नोट भी बरामद कर लिए। बाद में अन्य आवश्यक कार्रवाई की गई।
मीडिया के कैमरों से मुंह छुपाने की करता रहा जुगत(फोटुओं में देखें )
घटना की सूचना पाकर जब मीडियाकर्मी एसीबी कार्यालय पहुंचे तो कुरैशी उनके कैमरों से बचने के लिए कभी मुंह इधर-उधर घुमाता तो कभी हाथ से ढकता रहा। इससे मीडियाकर्मियों को काफी परेशानी हुई। इस कार्रवाई को अंजाम देने वाली एसीबी की टीम में सीआई विवेक सोनी सहित देवेन्द्र हाड़ा आदि शामिल रहे। अब कुरैशी को अदालत में पेश किया जाएगा।