पार्षद हुसैन ने आठवें दिन सफाईकर्मियों के हित की जंग जीत ली

0
248
  1. न्यूज चक्र @ कोटा

वार्ड 45 से पार्षद मोहम्मद हुसैन ने आखिर आठवें दिन नगर निगम के सफाईकर्मियों तथा वाल्मीकि समाज के हितों के लिए शुरू की गई एक बड़ी जंग को जीत लिया। नगर निगम को उनकी मांगों के सामने झुकते हुए शहर की सफाई के लिए इसी जनवरी माह में नए टेंडर जारी कर सफाईकर्मियों के बैंक खातों में सीधे  भुगतान जमा करने की व्यवस्था कर दी जाएगी। निगम के फैसले के आते ही हुसैन के समर्थकों के साथ वाल्मीकि समाज के लोगों में भी हर्ष की लहर दौड़ गई। उन्होंने हुसैन के जयकारे लगाते हुए धूम-धड़ाके के साथ नाच-गाकर अपनी खुशी जाहिर की।

गौरतलब है कि पार्षद हुुसैन लम्बे समय से विभिन्न मुुद्दों को लेकर आमजन के लिए संघर्ष करते आ रहे हैं। इसी क्रम में वे काफी समय से शहर की सफाई के लिए नए टेंडर जारी करने के साथ सफाईकर्मियों का भुगतान सीधे उनके बैंक खातों में जमा करवाए जाने की मांग करते आ रहे थे। नगर निगम प्रशासन सहित विभिन्न उच्च स्तरों पर समय-समय पर उन्होंने अपनी यह बात पहुंचाई। मगर इस पर कोई सकारात्मक निर्णय नहीं आने पर उन्होंने सात दिन पूर्व निगम के मुख्य द्वारा पर भूख हड़ताल शुरू कर दी थी। इससे प्रशासन ही नहीं अपितु राज्य सरकार के स्तर तक खलबली मची हुई थी। इसी का परिणाम रहा कि उन्हें समर्थन देने पहुंचे बड़े नेताओं में भाजपा नेता भी शामिल रहे। इनमें प्रमुख नाम हज कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष अमीन पठान का शामिल रहा। उन्होंने सरकार की ओर से आश्वासन भी दिया था कि हुसैन की मांग मान ली जाएगी। इसी क्रम में सोमवार सुबह पहले आम पार्टी के नेता नीलम शुक्ला के नेतृत्व में आधा दर्जन भ्रष्ट माने जाने वाले निगम के पार्षदों सहित महापौर व प्रशासन को इंगित करते हुए छह गधों की रैली निकाली गई। इनके साथ कार्यकताã मांगें व आरोप लिखी हुई तख्तियां लेकर भी चल रहे थे । निगम के गेट से शुरू होकर यह रैली सीएडी चौराहे होते हुए वापस यहीं पर पहुंच कर सम्पन्न हुई। इसके बाद निगम पर वाल्मीकि समाज के लोगों ने प्रदर्शन भी किया। इनमें रामचरण बनवासिया,नन्दलाल कोली, मुकेश वर्मा, शंकर कोली आदि शामिल थे । बाद में युवा कांग्रेस के कोटा-बूंदी लोकसभा क्षेत्र के महासचिव शादाब खान के नेतृत्व में भी प्रदर्शन कर महापौर महेश विजय को ज्ञापन दिया गया। इसी क्रम में शाम पांच बजे  हज कमेटी के अध्यक्ष अमीन पठान भी नगर निगम पहुंचे। यहां उनकी महापौर विजय व उपमहापौर सुनीता व्यास के साथ करीब एक घंटे वार्ता चली। इसके बाद हुसैन की मांगों को मानने का फैसला सुना दिया गया। इस पर पठान ने हुसैन को जूस पिलाकर उनकी भूख हड़ताल तुड़वाई।