जयपुर गैंग रेप कांड का सनसनीखेज खुलासा, हर कोई रह गया हैरान

0
1205
Rishiraj Meena in police custody
Police Commissioner Sanjay Agarwal

न्यूज चक्र @ जयपुर
चार दिन पूर्व गैंग रेप की जिस कहानी ने जयपुर ही नहीं अपितु पूरे राजस्थान में सनसनी फैला दी थी, पुलिस ने शुक्रवार को उसका इससे भी अधिक सनसनीखेज खुलासा किया। इस कहानी में सामने आया कि उस कथित गैंग रेप की पीड़िता युवती ने अपनी मर्जी से ही एक युवक को बुला कर शारीरिक संबंध बनाए थे। इस मामले की उसने फिल्म भी बनवाई। बाद में बॉय फ्रेंड के साथ मिलकर उस युवक को ब्लेक मेल करते हुए 5 लाख रुपए की डिमांड करनी शुरू की। पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी।
पुलिस ने युवती और उसके साथी को पकड़ कर उनसे 6 मोबाइल, 15 सिम, 5 एटीएम कार्ड व एक पल्सर बाइक बरामद कर ली है। इसके लिए तीन दिन तक गहन तफ्तीश की। इसमें सामने आया कि युवती की आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के बावजूद भी उसका रहन-सहन बहुत ही उच्च स्तरीय था। इसकी जांच में पता चला कि वह युवती पहले अपनी बुआ के पास यूपी में रहती थी। वहां उसका चाल-चलन सही नहीं होने के चलते उसे वहां से भेज दिया गया था।
मंगलवार सुबह उस युवती के द्बारा पुलिस को अपने साथ हुए कथित गैंग रेप की जानकारी देने के बाद से ही अधिकारी उसके बयानों के आधार पर ही जांच करते रहे। इस दौरान युवती ने कई बार अपने बयान बदले।
पुलिस ने पूरे रूट और एक हजार से ज्यादा आटो चालकों को खंगाला, लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लगा। इस प्रकार युवती के बयान पूरी तरह से झूठे साबित होने के बाद पुलिस ने अपनी जांच की दिशा बदली तब हकीकत सामने आई।
यह सच्चाई आई सामने
पुलिस को तफ्तीश में पता चला कि आरती नामक यह युवती सोमवार सायं सात बजे करीब अलवर से परीक्षा देकर जयपुर लौटी तो रेलवे स्टेशन से ऑटो में जगतपुरा फाटक तक गई। वहां उसका प्रेमी ऋषिराज मीणा अपनी बाइक पर उसके किराए के फ्लैट पर लेकर गया। इस दौरान आरती लगातार संदीप नाम के युवक से बात करती रही। उसने रात 10 बजे संदीप को फ्लैट पर बुलाया और सुबह 3 बजे तक उसके साथ तीन-चार बार शारीरिक संबंध बनाए। इस दौरान ऋषिराज मीणा दूसरे कमरे में छिपा रहा। सुबह 4 बजे करीब आरती ने संदीप से पैसों की मांग की, तो उसने उसके पास कोई पैसा नहीं होने की बात कही। इस पर उसने संदीप को वहां से भेज दिया। इसके बाद वह करीब 5 बजे ऋषिराज के साथ एमएनआईटी कॉलेज के गेट तक पहुंची और फिर पुलिस को झूठी सूचना दी।
इससे पहले ही बुधवार शाम समाचार पत्रों में संदीप का नाम आने के बाद वह खुद ही अपने दोस्त के साथ पुलिस के पास पहुंच गया और मामले की जानकारी दी। इस पर पुलिस ने आरती की कॉल डिटेल और चाल-चलन के आधार पर जांच की दिशा बदली। युवती के इर्द गिर्द पड़ताल कर पूरे मामले का खुलासा कर दिया। इस प्रकार झूठी कहानी रचकर कमाई के फेर में फंसी युवती आरती अपने ही जाल में फंस गई। पुलिस ने उसे और उसके प्रेमी ऋषिराज मीणा को गिरफ्तार कर लिया।
यह था मामला
मूल रूप से यूपी मगर हाल में जयपुर के जगतपुरा में रहने वाली 19 वर्षीय युवती आरती ने मंगलवार सुबह पुलिस को फोन कर अपने साथ रात को एक ऑटो रिक्शा चालक सहित चार युवकों द्वारा गैंग रेप करने की बात कही थी। इसके अनुसार वह प्रतियोगी परीक्षा देने अलवर गई थी। सोमवार सायं वहां से लौटी। रेलवे स्टेशन से जगतपुरा जाने के लिए एक ऑटो रिक्शा में बैठी। उसमें डाइवर के अलावा पीछे की सीट पर पहले से तीन लड़के और बैठे हुए थे। उनमें से एक लड़का आगे ड्राइवर के साथ बैठ गया। ऑटो रिक्शा चलते ही पीछे बैठे लड़कों ने उससे छेड़छाड़ करनी शुरू कर दी। विरोध किया तो उसका मुंह व आंख बांध दी। कई घंटे शहर में ऑटो रिक्शा को घुमाते रहे। फिर किसी सुनसान जगह पर पार्क जैसे स्थान पर पहुंचे। वहां उसे कोई नशीला पदार्थ पिला कर गैंग रेप किया। बाद में उसे एमएनआईटी कॉलेज के सामने पटक कर चले गए।