अब होटल और रेस्टोरेंट में लगने वाला सर्विस चार्ज देना-न देना आपकी मर्जी

0
228
 न्यूज चक्र @ नई दिल्ली
 अब होटल-रेस्टोरेंट में सर्विस चार्ज देना जरूरी नहीं होगा। होटल और रेस्टोरेंट 5 से 20 प्रतिशत तक सर्विस चार्ज वसूल करते रहे हैं। लेकिन, अब उपभोक्ता को अपनी इच्छा से ही सर्विस चार्ज देना होगा। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने सोमवार को साफ कर दिया कि रेस्टोरेंट के बिल में लगने वाला सर्विस चार्ज ऑप्शनल है, मेंडेटरी नहीं।
इस फैसले पर होटल एसोसिएशन ने कहा कि ग्राहक चाहें तो वे सर्विस चार्ज देने से मना कर सकते हैं। दरअसल, डिपार्टमेंट ऑफ कंज्यूमर अफेयर्स और केंद्र सरकार ने मामले में होटल एसोसिएशन ऑफ इंडिया से सफाई भी मांगी थी। इस पर होटल संघ ने कहा कि अगर ग्राहक सर्विस से संतुष्ट नहीं है तो वो सर्विस चार्ज देने से इनकार कर सकता है। बता दें कि कन्ज्यूमर अफेयर्स मिनिस्ट्री ने सभी राज्य सरकारों से कहा है कि वह कंपनियों, होटलों और रेस्ट्रॉन्ट्स को इस बारे में सचेत कर दें।
सर्विस चार्ज और सर्विस टैक्स में अंतर
सर्विस चार्ज और सर्विस टैक्स में अंतर होता है और ये छूट सर्विस टैक्स नहीं बल्कि सर्विस चार्ज पर दी गई है। होटल और रेस्तरां में ग्राहकों को 10 से 20 फीसदी तक यह चार्ज वसूला जाता है। वहीं ग्राहकों को सर्विस चार्ज के अलावा 12.5 फीसदी वैट और 6 फीसदी सर्विस टैक्स भी देना पड़ता है। लेकिन, अब आपके इच्छा के ऊपर निर्भर है कि आप सर्विस चार्ज दें या न दें। अगर होटल मालिक आपको सर्विस चार्ज के लिए मजबूर करता है तो आप कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 1986 के मुताबिक कंज्यूमर फोरम में शिकायत कर सकते हैं।