तख्तापलट के बाद अखिलेश समर्थकों का एसपी दफ्तर पर कब्जा, शिवपाल की नेमप्लेट उखाड़ी

0
392

न्यूज चक्र @ लखनऊ
सीएम अखिलेश यादव ने रविवार को पार्टी की कमान अपने हाथ में लेने के साथ ही पहला बड़ा फैसला करते हुए अपने चाचा शिवपाल यादव की जगह नरेश उत्तम को यूपी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया। इसी के साथ अखिलेश समर्थकों ने पार्टी कार्यालय पर कब्जा जमा लिया। समर्थकों ने कार्यालय पहुंचकर नारेबाजी की। वहां लगी हुए शिवपाल यादव की नेमप्लेट उखाड़कर फेंक दी।
प्रदेश अध्यक्ष चुने जाने पर नरेश उत्तम ने कहा कि हमें उम्मीद है कि 2017 हमारे लिए अच्छा होगा। मैं अखिलेश जी का धन्यवाद करता हूं। मैं उनके विश्वास को बनाए रखूंगा। अखिलेश यादव अब देश के नेता हो गए हैं। हम प्रदेश में लोकतंत्र को बनाए रखेंगे।
अखिलेश के ‘तख्तापलट’ के बाद मुलायम सिह ने भी जवाब दिया है। मुलायम ने सांसद नरेश अग्रवाल और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरनमय नंदा को पार्टी से बाहर निकाल दिया। नंदा को असंवैधानिक राष्ट्रीय सम्मेलन में शामिल होने व पार्टी-विरोधी गतिविधियों के कारण पार्टी से निष्कासित करने की बात कही गई है।
वहीं, इस फैसले पर नंदा ने कहा कि पार्टी के अध्यक्ष अब अखिलेश यादव हैं। बाकी की कोई वैल्यू नहीं है। शिवपाल तो अब पार्टी के कोई पदाधिकारी भी नहीं हैं। नंदा ने कहा कि कोई चिट्ठी मेरे पास नहीं आई है। पार्टी के नेता मुलायम सिह हैं। नेताजी ये सब काम नहीं करते। ये लोग उनसे काम कराते हैं। ये सब पार्टी को बर्बाद करना चाहते हैं।
इससे पहले सपा में जारी सियासी कलह के बीच पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव की ओर से बुलाए गए राष्ट्रीय अधिवेशन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया। अखिलेश को सपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव पार्टी महासचिव रामगोपाल ने रखा। उन्होंने अधिवेशन में मौजूद लोगों से हाथ उठाकर इसका समर्थन जताने को कहा, जिसके बाद बड़ी संख्या में लोगों ने हाथ उठाकर अपना समर्थन जताया।
राष्ट्रीय अधिवेशन में तीन और प्रस्ताव भी लाए गए, जिनमें से एक मुलायम को सपा का ‘मार्गदर्शक’ बनाने का प्रस्ताव था। एक अन्य प्रस्ताव में शिवपाल सिह यादव को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने की बात कही गई, जबकि एक अन्य प्रस्ताव में अमर सिह को सपा से बर्खास्त करने की बात कही गई। अधिवेशन में मौजूद प्रतिनिधियों ने उत्साह के साथ इन प्रस्तावों का समर्थन किया और हाथ उठाकर समर्थन जताया। इसी के साथ शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया गया और अमर सिह को पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया है।
इस मौके पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सभी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जो प्रस्ताव हुए वह उन लोगों के खिलाफ हैं, जिन्होंने पार्टी के खिलाफ काम किया है। उन्होंने कहा हमारे लिए नेताजी का स्थान सबसे ऊंचा और महत्वपूर्ण है। अगर नेताजी के खिलाफ कोई साजिश हो तो उनका बेटा होने के नाते मेरा फर्ज है कि मैं साजिश को सामने लाऊं। अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी का जहां नुकसान होगा, वहां कार्रवाई करनी पड़ेगी। अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी में ऐसे लोग हैं जो सरकार बनाना नहीं चाहते हैं। लेकिन सरकार बनेगी तो नेताजी को सबसे ज्यादा खुशी होगी। उन्होंने कहा कि लोग चाहते हैं कि पार्टी की सरकार एक बार फिर बने। तीन-चार महीने सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। ऐसे में यह सब पार्टी को नुकसान पहुंचाएगा। उन्होंने पार्टी विधायकों और कार्यकर्ताओं का धन्यवाद दिया कि पार्टी का मनोबल अभी तक कम नहीं हुआ है।

  • यह भी पढें-अखिलेश पिता को हटा खुद बने सपा सुप्रीमो, इधर, मुलायम ने रामगोपाल को फिर निष्कासित किया

सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने अखिलेश यादव को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि अखिलेश नेताजी की छत्रछाया में ही काम करेंगे।
इससे पहले सपा सुप्रीमो मुलायम सिह यादव ने इस अधिवेशन को असंवैधानिक करार दिया और कहा कि वह पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, उनके पास ये अधिकार हैं। उन्होंने कहा है कि जो भी इस अधिवेशन में शामिल हुए हैं, वे उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे। मुलायम ने एक वक्तव्य जारी कर यह बात कही है।
उल्लेखनीय है कि आज सुबह ही समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिह यादव से मिलने उनके घर पहुंचे। सूत्रों के मुताबिक यहां पर शिवपाल ने मुलायम से अपने पद से इस्तीफे की पेशकश की थी। उन्होंने कहा कि अगर यूपी अध्यक्ष पद से उनका इस्तीफा लेने के बाद झगड़ा खत्म हो तो उनका इस्तीफा ले लिया जाए। इसके अलावा खबर है कि मुलायम आज संसदीय कमेटी की बैठक बुला सकते हैं।