गायों की सुरक्षा के लिए निकाला मौन जुलूस, तहसीलदार का पुतला फूंका

भीमलत में शहर से ले जाकर छोड़ी गई गायों के हालात सही बताने वाली रिपोर्ट देने पर तहसीलदार को तुरंत निलम्बित करने सहित गायों को वापस शहर में लाने की मांग

0
1111
बूंदी। बुलबुले के चबूतरे से गायों की रक्षा की मांग को लेकर रवाना होता मौन जुलूस।

न्यूज चक्र @ बूंदी
गौरक्षक सेवादल के तत्वावधान में सोमवार को गौवंश की रक्षा व इस संबंध में प्रशासन को गलत रिपोर्ट देने वाले तहसीलदार के कार्यवाही किए जाने की मांग को लेकर मौन जुलूस निकाला गया। नाहर का चौहटा स्थित बुलबुल के चबूतरे से शुरू होकर यह जुलूस विभिन्न मार्गों से होता हुआ जिला कलक्ट्रेट के बाहर पहुंचा। यहां तहसीलदार का पुतला फूंकने के बाद अंदर जाकर एडीएम को मांगों के संबंध में ज्ञापन दिया।
बुलबुल के चबूतरे से दिन के साढ़े ग्याहर बजे बाद शुरू हुआ यह जुलूस तिलक चौक,सदर बाजार, कोटा रोड होता हुआ कलक्ट्रेट कार्यालय के बाहर पहुंचा। इसमें शामिल युवाओं के हाथों में तख्तियां थीं। इन पर गौ हत्या नहीं स्वीकार, तहसीलदार के खिलाफ कार्यवाही किए जाने संबंधी आदि नारे लिखे हुए थे। यहां तहसीलदार का पुतला फूंका गया। इसके बाद यह मौन जुलूस आक्रोश रैली में बदल गया। इसमें शामिल युवा गौमाता का यह अपमान नहीं सहेगा हिन्दुस्तान, भीमलत में गौवंश की सुरक्षा करो, गौवंश को रेल से कटने से बचाओ आदि नारे लगाता हुआ। जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय परिसर में पहुंचा। यहां भी प्रदर्शन कर एडीएम रामजीवन मीणा को जिला कलक्टर के नाम मांगों को लेकर ज्ञापन दिया। इसमें कहा गया था कि बिना सुनियोजित योजना के शहर से गौवंश को भीमलत में रेलवे ट्रेक के पास लेे जाकर मरने के लिए छोड़ दिया गया। वहां कई गायें मर चुकी हैं। वहीं तहसीलदार ने प्रशासन को झूठी रिपोर्ट दी कि वहां ऐसा कुछ नहीं हुआ है। वहां सभी गायों को सही हालत में बताया। जबकि हालात यह हैं कि गौ रक्षक दल के कार्यकर्ता रोज वहां अपने स्तर पर वाहन ले जाकर बेहाल पशुओं को स्थानीय पशु चिकित्सालय ला रहे हैं। इस बारे में काफी सबूत हैं। ज्ञापन में चरागाह की भूमि को मुक्त करवाने व तहसीलदार को तुरंत निलम्बित करने के साथ ही शहर से बाहर ले जाकर छोड़े गए गौवंश को वापस बूंदी शहर में लाकर लाकर गौशाला में तमाम सुविधाओं के साथ रखे जाने की मांग भी की गई है। इसमें यह भी कहा गया है कि चरागाह की कई बीघा जमीन पर अतिक्रमण है, उसे मुक्त क्यों नहीं कराया जा रहा है।
जुलूस में गौ रक्षक दल के कार्यकर्ता मुकुन्द शर्मा, मोनू पगारा, गोपाल माहेश्वरी, गिरधर सिंह, अमन शर्मा, अंकित गौतम, पार्षद रुखसाना परवीन, मनीष सिसोदिया, मुकेश माधवानी व नगर परिषद के पूर्व उपसभापति संतोष कटारा सहित महेश जिन्दल,आनन्द चंदेल, हितेष खींची, अंकुर खींची, पूर्व पार्षद विजयशंकर टेलर, गोपाल शर्मा,मुत्तलिफ अंसारी, नाहर सिंह राठौर चर्मेश शर्मा आदि शामिल रहे।

आज कोटा में सम्भागीय कार्यालय पर प्रदर्शन

गौ सेवा मण्डल के गोपाल माहेश्वरी व अंकित गौतम ने कहा कि बूंदी नगर परिषद द्वारा गौवंश की दुर्दशा करने व इससे भीमलत में गायों की हो रही मौतों के विरोध में मंगलवार को कोटा में सम्भागीय आयुक्त कार्यालय पर भी प्रदर्शन किया जाएगा। इसमें गौसेवा से जुड़े हुए शहरवासी शामिल रहेंगे। इसके लिए कार्यकर्ता सुबह दस बजे बूंदी से रवाना होंगे |

। बूंदी। जिला कलक्ट्रेट के बाहर तहसीलदार का पुतला फूंकते गौरक्षक सेवा दल के कार्यकर्ता।

बूंदी। जिला कलक्ट्रेट के बाहर तहसीलदार का पुतला फूंकते गौरक्षक सेवा दल के कार्यकर्ता।