रोजगार नहीं दे सकते तो सामूहिक आत्महत्या की परमिशन दो

0
439
बूंदी। संसदीय सचिव सुरेश सिंह रावत को रोजगार दिए जाने की मांग को लेकर ज्ञापन देते विद्यार्थी मित्र शिक्षक संघ के जिला उपाध्यक्ष मनोज खटीक।

न्यूज संदेश @ बूंदी
सर्किट हाउस में पहुंचे संसदीय सचिव सुरेश सिंह रावत से विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ताओं ने मिलकर अपनी मांगों के संबंध में ज्ञापन दिए। साथ ही समस्याओं के समाधान की मांग की इसमें विद्यार्थी मित्र शिक्षक संघ उनसे संघ के जिला उपाध्यक्ष मनोज खटीक के नेतृत्व में मिला। इन्होंने राज्य सरकार से उन्हें रोजगार दिए जाने की मांग की। अन्यथा सामूहिक आत्महत्या की अनुमति मांगी।
ज्ञापन में लिखा है कि विद्यार्थी मित्रों ने विधान सभा चुनाव सहित लोकसभा चुनाव, स्थानीय निकाय चुनाव व पंचायती राज चुनाव में भी पूरी निष्ठा से काम किया। जब सरकार बनी तो कहा गया था कि एक भी विद्यार्थी मित्र को बेरोजगार नहीं रहने दिया जाएगा। मगर दुर्भाग्य है कि 1 अप्रेल 2014 से अब तक हम बेरोजगार हैं। रोजगार के लिए भटक रहे हैं। बेरोजगारी से परेशान राज्य में 11 विद्यार्थी मित्र अपनी जान दे चुके हैं। गत मई माह में ही तीन अन्य विद्यार्थी मित्रों ने आत्महत्या का प्रयास किया। सरकार या तो अपना वायदा पूरा करते हुए रोजगार दे या सामूहिक आत्महत्या की अनुमति प्रदान करें।

विद्यार्थी परिषद ने भी उठाई मांग

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भी संसदीय सचिव रावत को ज्ञापन देकर पीजी कॉलेज में एमए समाज शास्त्र भी शुरू किए जाने की मांग की। इसमें कहा गया है कि शिक्षा मंत्री कालीचरण सराफ इस संबंध में घोषणा तो कर गए थे, मगर वे बाद में भूल गए।

परिषद की छात्राओं ने गल् र्स   छात्रावास की मांग

रावत को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ी छात्राओं ने ज्ञापन देकर मांग की है कि पीजी कॉलेज के सामने स्थित छात्रावास को पीजी कॉलेज गल् र्स  छात्रावास में परिवर्तित कर दिया जाए। पीजी कॉलेज में वर्तमान में करीब डेढ़ हजार छात्राएं अध्ययनरत हैं। इनमें से अधिकतर ग्रामीण व कस्बाई क्षेत्रों की हैं। कॉलेज के सामने की उनके लिए छात्रावास हो जाने से उन्हे काफी राहत मिलेगी।