कांग्रेस की चेतावनी का असर:बिना समारोह मातृ एवं शिशु चिकित्सालय शुरू

जिले की प्रसूताओं को अब मिलेगा अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित चिकित्सालय भवन में उपचार, 14 करोड़ की लागत से बना मातृ एवं शिशु चिकित्सालय उद्घाटन नहीं होने के कारण छह माह से पड़ा था बंद, पुराने चिकित्सालय में परेशान होती थीं प्रसूताएं व नवजात, कांग्रेस ने दी थी 29 जून को उद्घाटन की चेतावनी

0
828
बूंदी। नए मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में डॉक्टर्स का माल्यार्पण कर व मुंह मीठा कर अभिनंदन करते कांग्रेस कार्यकर्ता।

न्यूज चक्र @ बून्दी


जिला चिकित्सालय परिसर में 14 करोड़ की लागत से बन कर तैयार हुए अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त  मातृ  एवं शिशु चिकित्सालय को आखिर बिना उद्घाटन समारोह के ही सोमवार से शुरू कर दिया गया। यह छह माह से उद्घाटन होकर शुरू किए जाने का इंतजार कर रहा था। इससे इसमें लगाई गईं आधुनिक मशीनें प्रसूताओं व नवजातों के लिए राहत का सबब बनने की बजाय धूल फांक रहीं थीं। इस पर कांग्रेस व एनएसयूआई ने प्रशासन को 29 जून को अपने स्तर पर ही इसका उद्घाटन कर देने की चेतावनी दी थी। मगर इसके दो दिन पहले ही प्रशासन ने अपनी बड़ी फजीहत होने से बचाने के लिए यह कदम उठाया। हालांकि फिर भी सिस्टम गम्भीर सवालों से तो बच नहीं सकता है।
उल्लेखनीय है कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान मातृ एवं शिशु चिकित्सालय का निर्माण शुरू हुआ था। इसका उद्देश्य प्रसूताओं व नवजात शिशुओं को अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ बेहतर इलाज व देखभाल उपलब्ध करवाना था। 14 करोड़ की लागत से यह चिकित्सालय छह माह पूर्व ही बन कर तैयार हो गया था। मगर मात्र उद्घाटन नहीं हो पाने से यह प्रसूताओं व नवजातों को जैसे मुंह चिढ़ा रहा था। पुराने चिकित्सालय भवन में पर्याप्त सुविधाएं नहीं होने से प्रसूताओं व नवजात शिशुओं को काफी परेशानी होती थी। कुछ दिन पूर्व तो करीब दस शिशुओं की जान पर ही बन आई थी। इसके बाद बवाल पैदा होने पर ही राजस्थान युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव चर्मेश शर्मा, बून्दी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष संजय तम्बोली, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष एवं पार्षद रोहित बैरागी ने कांग्रेस की ओर से 29 जून को प्रसूताओं के द्वारा इस चिकित्सालय का उद्घाटन करवा देने की चेतावनी दी गई थी। इसके लिए जिला कलक्टर नरेश कुमार ठकराल को एक ज्ञापन भी दे दिया गया था। इसके लिए पार्टी का व्यापक स्तर पर जनसम्पर्क भी जारी था। दूसरी ओर इससे प्रशासन में हड़कम्प मच गया था।
इसके बाद मातृ एवं शिशु चिकित्सालय की शुरुआत कर देने पर युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव चर्मेश शर्मा खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि बूंदी जिले की प्रसूताओं व नवजात बच्चों को अब श्रेष्ठ चिकित्सा का लाभ मिल सकेगा। कार्यकर्ताओं ने चिकित्सालय में जाकर बच्चों व चिकित्सकों का माल्यार्पण कर मुंह भी मीठा करवाया। इस अवसर पर डीसीसी महासचिव सत्येश शर्मा, बूंदी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष संजय तम्बोली, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष रोहित बैरागी, पूर्व जिलाध्यक्ष महावीर मीणा, प्रदेश सचिव यासीन कुरेशी, जिला महासचिव हितेश खींची, शहर अध्यक्ष आदिल कुरेशी, हंसा ज्योति ध्वज वाहक नरेन्द्र पायलेट, हिमालय वर्मा, कॉलेज इकाई अध्यक्ष हेमन्त वर्मा, रामराज गुर्जर, छात्र नेता दिनेश सैनी, रोहित दाधीच, लवीश शर्मा आदि कांग्रेस कार्यकताã मौजूद थे।
प्रसूताओं व शिशुओं को भी नए भवन में शिफ्ट करवाया
सुबह प्रशान ने जल्दबाजी में मातृ एवं शिशु चिकित्सालय को प्रारम्भ कर इसमें आउटडोर सुविधा तो शुरू कर दी गई थी, मगर प्रसूताएं व शिशु पुराने चिकित्सालय में ही भर्ती थे। इस पर कांग्रेस नेताओं ने सीएमएचओ अशोक जैन व उपनियंत्रक डॉ. ओपी वर्मा के समक्ष विरोध दर्ज करवाया। इन्होंने कहा कि पुराने भवन में भीषण गर्मी व उमस के चलते प्रसूताएं व नवजात बच्चे परेशान हो रहे हैं। इन्हें भी तुरंत प्रभाव से इस नए भवन भी शिफ्ट करना चाहिए। अन्यथा 29 जून को कांग्रेस कार्यकर्ता प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद पोस्ट ऑपरेटिव वार्ड से प्रसूताओं व नवजात बच्चों को भी इस नए वातानुकूलित चिकित्सालय भवन में शिफ्ट करने की कार्रवाई शुरू की। इसके बाद बून्दी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष तम्बोली व एनएसयूआई जिलाध्यक्ष बैरागी ने 29 जून का अपना कार्यक्रम स्थगित करने की घोषणा की।

बूंदी। नए मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में ही प्रसूताओं व शिशुओं को शिफ्ट किए जाने की मांग को लेकर सीएमएचओ व डिप्टी कंट्रोलर से चर्चा करते कांग्रेस कार्यकर्ता।
बूंदी। नए मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में ही प्रसूताओं व शिशुओं को शिफ्ट किए जाने की मांग को लेकर सीएमएचओ व डिप्टी कंट्रोलर से चर्चा करते कांग्रेस कार्यकर्ता।

 

बूंदी। अत्याधुनिक मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में भर्ती प्रसूताएं।
बूंदी। अत्याधुनिक मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में भर्ती प्रसूताएं।