पत्रकारों ने दिया कलक्टर को ज्ञापन, भाजपा नेताओं ने की पत्रकार वार्ता

2
545

न्यूज चक्र @ बूंदी

जिले के ग्यारह गांवों को यूआईटी कोटा में शामिल किए जाने का शुक्रवार को भी विरोध जारी रहा। शाम को राजस्थान पत्रकार संघ (जार) व एसोसिएशन ऑफ इंडियन वर्किंग जर्नलिस्ट (एआईडब्ल्यूजे) के पदाधिकारियों ने जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया। वहीं इससे पूर्व विधायक ओम प्रकाश शर्मा व पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष कुन्ज बिहारी बील्या ने पत्रकार वार्ता कर अपनी बात रखी।
जिला कलक्टर नरेश कुमार ठकराल को इस मसले पर ज्ञापन देने वाले जार के प्रतिनिधिमंडल में जिलाध्यक्ष विजयंत आमेरा, प्रदेश प्रतिनिधि दुर्गाशंकर शर्मा सहित प्रदीप जोशी, अशोक शर्मा, निरंजन गुप्ता (टिल्लू), कुलदीप व्यास, दिलीप बाकलीवाल, रामफूल मेहरा, इजहार, मनीष पाटनी आदि पदाधिकारी शामिल थे। वहीं एआईडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय सहसचिव कमलेश शर्मा, जिलाध्यक्ष दिनेश विजयवर्गीय, सर्वेश तिवारी, कृष्ण कान्त राठौर, जितेन्द्र कुमार वर्मा, कुलदीप कुमावत व महेन्द्र शर्मा ने कलक्टर ने भी कलक्टर को अलग से विरोध पत्र सौंपा।

दूसरी ओर पत्रकार वार्ता में दोनों भाजपा नेताओं ने इस घोषणा को किसानों के साथ आम जनता के लिए भी अन्याय बताया। उल्लेखनीय है कि 23 मई को भी इन दोनों भाजपा नेताओं ने पूर्व वित्त राज्य मंत्री व कांग्रेस के दिग्गज नेता हरिमोहन शर्मा के साथ इस मुद्दे पर सांसद ओम बिरला को ज्ञापन दिया था। बिरला यहां जनसुनवाई में आए थे। उल्लेखनीय है कि ओम प्रकाश शर्मा ने कांग्रेस के राज में इस प्रस्ताव की घोषणा के साथ ही इसका विरोध शुरू कर दिया था। गुरुवार को इस मसले पर महिला आयोग की पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष ममता शर्मा ने भी पत्रकारों के समक्ष इस मसले पर रोष जताया था। इस बार इस योजना की सबसे पहले खिलाफत कांग्रेस नेता हरिमोहन शर्मा ने की थी। यह अलग बात है कि उनकी पार्टी की सरकार के समय में ही इस प्रस्ताव की घोषण हुई थी। मगर वे उस वक्त चुप रहे थे।