शारीरिक शिक्षकों को रास नहीं आ रही यह स्थिति

0
718

न्यूज चक्र @ कोटा
शारीरिक शिक्षकों को अंत तक इसी पद पर बना रहना रास नहीं आ रहा है। इसी के चलते उन्होंने राजस्थान शारीरिक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष लीलाधर मेहता के नेतृत्व में पदोन्नति में विसंगतियोें को लेकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।
मेहता ने बताया कि राजस्थान शिक्षा विभाग के अनेक वर्ग हैं। जिन पर नीचे से लेकर ऊपर तक के पदों पर अध्यापकों को पदोन्नतियां देकर पदस्थापित कर रखा है। वहीं शारीरिक शिक्षकों को कुछ ही पदों पर प्रमोशन देकर सीमित रखा गया है। जैसे अध्यापकों को व्याख्याता तक तथा प्रधानाध्यापक से लेकर संयुक्त निदेशक तक के पदों पर पदस्थापित किया गया है।
उन्होंने ज्ञापन में मांग की है कि जिस प्रकार शिक्षा अधिकारियों के उच्च पदों पर पदस्थापित होने पर शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए बीएसटीसी, बीएड, एमएड के ट्रेनिग सेंटर खोल रखे हैं। उसी प्रकार शारीरिक शिक्षक भी प्रशिक्षण प्राप्त करके आरपीएससी के द्बारा परीक्षा लेने के बाद नियुक्ति पाता है। लेकिन शिक्षक को संयुक्त निदेशक तक पदोन्नति मिलती है, जबकि शारीरिक शिक्षकों को सीमित पदों पर ही पदोन्नति मिल पाती है। इस प्रकार पीटीआई ग्रेड के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की है कि प्रजातंत्र में समानता के अधिकार का पालन करते हुए शारिरीक शिक्षकों को भी उच्च पदों पर पदोन्नतियां दी जाएं।