फोरलेन व चम्बल पेयजल पाइप लाइन में बाधा बने अतिक्रमणों को ढहाया

नेशनल हाईवे पर कोटा के निकटवर्ती खैरोली में हुई प्रशासन की अहम कार्रवाई

4
1042

kheroli 2kheroli 3

न्यूज चक्र @ बूंदी
तालेड़ा क्षेत्र से गुजर रहे नेशनल हाईवे पर फोरलेन सड़क निर्माण के चलते चार साल पूर्व मुआवजा ले चुकने के बावजूद खैरोली में पक्के निर्माण नहीं हटाने वाले अतिक्रमियों के खिलाफ शुक्रवार को प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए इन्हें ढहा दिया। इससे कोटा से बूंदी के लिए चम्बल नदी से डाली जा रही पेयजल पाइप लाइन का अटका हुआ काम भी वापस शुरू हो सकेगा।
इस दौरान एसडीएम कृष्णा शुक्ला के नेतृत्व में जाब्ते ने छह निर्माण कार्यों को ध्वस्त किया। यहां अतिक्रमियों के सामान्य प्रतिरोध का सामना भी करना पड़ा। मगर एसडीएम ने आक्रोशित लोगों से समझाइश कर शांतिपूर्ण तरीके से कार्रवाई को अंजाम दिया।
सड़क निर्माण कम्पनी जीवीके के द्वारा इन अतिक्रमणों को हटाने में असमर्थता जताने के बाद चम्बल पेयजल योजना के अधिकारियों ने जिला प्रशासन से इसके लिए जिला प्रशासन से गुहार की थी। इन अतिक्रमणों के चलते ही लम्बे से चम्बल पेयजल योजना का काम अटका पड़ा था। कलक्टर नरेश कुमार ठकराल के निर्देश पर एसडीएम कृष्णा शुक्ला ने यह कार्रवाई की। चम्बल पेयजल लाइन परियोजना के एक्सईएन देवकी नन्दन व्यास के अनुसार एनएचआई व फोरलेन सड़क निर्माण कम्पनी जीबीके की लापरवाही के चलते ही लोगों ने मुआवजा लेने के बावजूद अतिक्रमण नहीं हटाए थे।