व्यापमं घोटाला : सीबीआई जांच की जद में शिवराज की ससुराल

3
450

न्यूज चक्र @ भोपाल

व्यापमं घोटाले के मामले में सीएम शिवराज सिंह चौहान की ससुराल वाला गांव सीबीआई जांच की जद में आने का मसला खासी चर्चा में है। यह जांच परिवहन भर्ती घोटाले के संदर्भ में है | इसमें गांव के 56 अभ्यर्थी संदिग्ध हैं। बताया जा रहा है कि सभी का कनेक्शन महाराष्ट्र के गोंदिया नामक स्थान से है, जो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ससुराल बताया जाता है।

संभव है यह इत्तेफाक हो, मगर जब गोंदिया का नाम आ गया है तो शिवराज के दामन पर दाग लगना स्वभाविक है। परिवहन आयुक्त शैलेन्द्र श्रीवास्तव का कहना है कि सीबीआई ने जो भी दस्तावेज मांगे थे, उसे वे सब उपलब्ध करा दिए गए हैं। उधर सीबीआई के अधिकारियों ने भी इस बात की पुष्टि की है कि रिकाॅर्ड मिल गया है। सीबीआई प्रवक्ता देवप्रीत सिंह ने कहा कि इस मामले में सीबीआई एसटीएफ से मिली जानकारी के अलावा दस्तावेजों की पड़ताल से भी नए सुराग जुटाने की कोशिश कर रही है। जांच से जुड़ी चीजें बता पाना अभी संभव नहीं है।

20 लाख में तय हुआ था सलेक्शन

एसटीएफ ने 13 अक्टूबर 2014 को परिवहन आरक्षक भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी की एफआईआर दर्ज की थी। 12 अगस्त 2012 को व्यापमं ने परिवहन आरक्षक भर्ती परीक्षा आयोजित की थी। 198 पदों के लिए आयोजित इस परीक्षा में पास होने के लिए कई उम्मीदवारों का 20-20 लाख रुपए में सौदा तय हुआ था। मामले में एसटीएफ ने उम्मीदवारों व व्यापमं अधिकारियों सहित 34 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। जुलाई में सीबीआई को यह जांच सौंपी गई। इसके बाद सीबीआई ने व्यापमं से परीक्षा का रिकाॅर्ड जब्त किया। हालांकि पिछले कुछ दिनों से ही इस मामले में सीबीआई ने जांच तेज की है।

क्या सारे लोग एक ही इलाके के हैं?

सीबीआई की शुरुआती जांच में यह भी पता चला है कि गलत तरीके से भर्ती होने वाले ज्यादातर उम्मीदवार महाराष्ट्र के किसी एक ही जिले से ताल्लुक रखते हैं। इस जिले से सरकार से जुड़े बड़े नामों का गहरा रिश्ता है। एसटीएफ की जांच के दौरान कांग्रेसी विधायकों ने इस संबंध में विधानसभा में भी आरोप लगाए हैं। आरोपी उम्मीदवारों ने मूल निवास प्रमाण पत्र गलत इसलिए लगाया ताकि उनके सलेक्शन पर किसी तरह सवाल न उठाए जा सके।

जांच पर क्या असर?

सरकार से जुड़े बड़े नाम जांच के दायरे में आएंगे। वजह यह है कि गलत तरीके से भर्ती होने वाले उम्मीदवार उनके नजदीकी रहे हैं। आरोप हैं कि इसी नजदीकी का फायदा उठाकर उन्होंने परीक्षा में धांधली को अंजाम दिया |