वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल : पांच करोड़ के जुर्माने के साथ श्रीश्री के कार्यक्रम को मिली मंजूरी

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने आयोजन के बाद स्थल की सफाई करवाने के भी आदेश दिए

0
298

न्यूज चक्र @ नई दिल्ली
भारी असमंजस के बीच नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने बुधवार को यमुना नदी के किनारे श्रीश्री रविशंकर के कार्यक्रम वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल को आखिर मंजूरी दे दी। मगर एनजीटी ने उन पर 5 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया है। इसके साथ ही दिल्ली प्रदूषण कमेटी पर भी एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया।
एनजीटी ने यह आदेश भी दिया है कि आयोजकों और आर्ट ऑफ लिविंग को आयोजन के बाद स्थल की सफाई भी करनी होगी। माना जा रहा है कि आयोजन की शिकायत में देरी हुई। इस बीच कार्यक्रम की तैयारियां चलती रहीं। आर्ट ऑफ लिविंग को इसी बात का फायदा मिला।

संसद तक भी पहुंची कार्यक्रम की गूंज

इससे पहले संसद में श्रीश्री रविशंकर के सांस्कृतिक कार्यक्रम का विपक्ष ने विरोध किया। उसका विरोध आयोजन के लिए पंटून पुल बनाने में सेना के इस्तेमाल को लेकर था। साथ ही इस आयोजन से जुड़ी पर्यावरणीय चिताओं को भी मुद्दा बनाया। राज्यसभा में विपक्षी सदस्यों ने इस निजी समारोह के आयोजन में सैनिकों के इस्तेमाल के खिलाफ नारेबाजी की। इस मुद्दे पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से जवाब भी मांगा।
जद-यू के नेता शरद यादव ने कहा कि यह इंसान (रविशंकर) सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन की बात कर रहा है और आप इसके आयोजन में पुलों के निर्माण के लिए सेना का इस्तेमाल कर रहे हैं। सरकार को इसे तुरंत रोकना चाहिए। एक हजार एकड़ की जमीन में ये लोग यह सब कर रहे हैं। यह यमुना को बर्बाद कर देगा।
इस बीच, विपक्ष के अन्य सदस्यों ने खड़े होकर सेना बचाओ और रक्षा मंत्री जवाब दो के नारे लगाने शुरू कर दिए।