जयपुर : दिन दहाड़े घर पर डाका, परिवारजनों को बंधक बना कर लाखों की ज्वेलरी व रुपए लूटे

3
383

jaipur 3

न्यूज चक्र @ जयपुर

राजधानी में चाकचौबंद होने का दावा करने वाली पुलिस को डकैत दिनदहाड़े बड़ी वारदात को अंजाम दे उसकी असलियत बता गए। हथियारबंद डकैतों ने बुधवार दिन में एक घर पर दबिश दी। परिवार के सदस्यों को बंधक बनाया। आराम से लाखों रूपए और ज्वेलरी बटोरी। फरार हो गए। वारदात को अंजाम देते हुए पीड़ित परिवार से कहा कि वे तो पेट पालने आए हैं। सूचना पाकर पुलिस पहुंची। मौका मुआयना किया। सबूत जुटाने की कार्रवाई की। फिर तहकीकात शुरू कर दी। अब पीड़ित परिवार को ही नहीं पूरे शहर को इस वारदात के खुलने का इंतजार है। देखते हैं यह इंतजार कब खत्म होता है। होता भी है या नहीं।
वारदात दोपहर करीब बारह बजे के आसपास की है। जवाहर सर्किल इलाके के सिद्धार्थ नगर स्थित मकान नंबर ई-113 के मालिक गिरधारी मनकानी रोज की तरह मुहाना मंडी में टमाटर की आढ़त का काम करने गए हुए थ्ो। घर पर उनकी पत्नी रेखा, तीन बेटियां और एक दस वर्षीय पुत्र अंकित था।

पार्सल देने के बहाने आए बदमाश

इसी बीच घर पर दो युवक आए। उनका कहना था कि कोई पार्सल आया है, वह देना है। इस बहाने से वे घर में घुसे। परिवार के सदस्यों को झांसे में लेकर उनसे कुछ कागजों पर नाम-पता लिखवाने का नाटक करने लगे। इसी बीच उनके तीन और साथी घर में घुस आए। परिवारजनों के मुताबिक बदमाश हथियारबंद थ्ो। पांच में से तीन के पास रिवॉल्वर व एक के पास चाकू था।

रिवॉल्वर तान कर परिवार को बंधक बनाया

अपने तीन साथियों के और आते ही बदमाश अपने असली रंग में आ गए। उन्होंने घर पर मौजूद परिवार के सभी सदस्यों को रिवॉल्वर की नोक पर बंधक बना लिया। पांच में से चार सदस्यों को तो मकान के ऊपर वाले कमरे में ले जाकर बंद कर दिया। नीचे रही गिरधारी मनकानी की एक बेटी को डरा-धमकाकर रुपए और जेवर सहित अन्य कीमती सामान वाली अलमारी बताने को कहा। उस अलमारी का पता चलते ही एक बदमाश ने उसे तोड़ने का काम किया। इसके बाद उसमें रखे हुए सोने-चांदी के जेवरों सहित करीब तीन लाख रुपए निकाल लिए।

सहानुभूति बटोरने की भी कोशिश, पानी पिलवाया, कहा-पेट पालने आये हैं

वारदात में चौंकाने वाली यह बात भी सामने आई है कि डकैतों ने बंधक बनाए गए परिवार के सदस्यों से पानी पीने के लिए पूछा। साथ ही इनमें से एक ने यहां तक कहा कि हम तुम्हे मारने नहीं, बल्कि अपना पेट पालने के लिए आए हैं।

बालक अंकित को मारने की दी धमकी

बदमाशों ने जाते-जाते पुलिस को सूचना देने पर परिवार के सबसे छोटे सदस्य दस वर्षीय अंकित की ओर इशारा करते हुए उसे जान से मार देने की धमकी दी।  

अंग्रेजी में कर रहे थे बात

पीड़ित परिजनों का कहना है कि बदमाश बातचीत में अंग्रेजी का भी खासा इस्तेमाल कर रहे थ्ो। इससे लगात है कि वे पढ़े-लिख्ो थ्ो। इस वारदात के चलते पूरा मनकानी परिवार भारी दहशत में है। घर पर आस-पड़ौसियों की भीड़ लगी हुई थी। वे उन्हें सांत्वना देने का प्रयास कर रहे थ्ो।