अमंगल स्वरूप, मगर शिव अपने भक्तों का करते हैं मंगल

भामाशाह मंडी में महाशिवरात्रि के अवसर पर हुई धर्मसभा को विधायक भवानीसिंह राजावत ने किया संबोधित

3
378

न्यूज चक्र @ कोटा

विधायक भवानी सिंह राजावत ने कहा कि भगवान शंकर का स्वरूप अमंगलकारी है। मुर्दे की राख को शरीर पर लपेटना। गले में सांप लटके हुए। बैल की सवारी के आगे-पीछे भूत-प्रेत। कंठ में जहर। ऐसा कुरूप होने के बावजूद वे इतने दयालु हैं अपने भक्तों पर बहुत जल्द प्रसन्न हो उनका मंगल ही मंगल करते हैं। इसीलिए देश के करोड़ों श्रद्धालु बारह ज्योतिर्लिंगों सहित लाखों शिव मंदिरों में प्रतिदिन उनकी पूजा-अर्चना, आराधना और अभिषेक करते हैं।
राजावत सोमवार को भामाशाह मंडी में स्थित शिव मंदिर के प्रांगण में महाशिवरात्रि के अवसर पर आयोजित धर्मसभा को संबोधित कर रहे थ्ो। इसमें मंडी के पल्लेदार, मुनीम, श्रमिक व व्यापारी मौजूद थ्ो। उन्होंने आगे कहा कि चाहे कोई कितना ही परिश्रम कर ले, मगर ईश्वर की कृपा के बगैर जीवन में कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता है। जिस प्रकार खेत में लहलहाती फसल को देखकर किसान कई सपने संजो लेता है। मगर पल भर में मौसम बदल जाता है, ओले पड़ते हैं, और फसल नष्ट हो जाती है। कई बार तो वो पकी हुई फसल लेकर वो मंडी में पहुंच ढेर लगाता है और वहां वो मूसलाधार बारिश में बह जाती है। इसलिए हमें जीवन में आगे बढèने के लिए कड़ी मेहनत तो करनी ही चाहिए, लेकिन भगवान पर भी भरोसा रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि 17 साल पहले तत्कालीन मुख्यमंत्री भैरोसिंह शेखावत ने इस मंडी का निर्माण करवाया तब यह हिंदुस्तान की सबसे बड़ी मंडी थी। ईश्वर की कृपा से यहां ऐसा कारोबार चला कि अब इस मंडी का परिसर छोटा पड़ने लगा है। इसलिए हम मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से आग्रह करेंगे कि पास ही अनुपयोगी पड़ी वन भूमि में से 5०० बीघा जमीन मंडी के विस्तार के लिए आवंटित करवाई जाए। जिससे कारोबार चलाने में आ रही कठिनाई दूर हो सके।
सभा को मंडी के उपाध्यक्ष देवा भड़क, थोक फल सब्जी मंडी के अध्यक्ष ओम मालव, ग्रेन मर्चेन्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष अविनाश राठी, मंडी के सचिव रामपाल कुमावत, किसान मोर्चा के प्रदेश मंत्री मुकुट नागर, मंडी के निदेशक मनीष बंकट व पल्लेदार निदेशक जगदीश गुर्जर आदि ने भी सम्बोधित किया। विधायक राजावत ने चन्द्रेसल मठ व जगन्नाथपुरा में शिव मेले का उद्घाटन भी किया।