महाराष्ट्र: अपने ही परिवार के 14 सदस्यों का गला रेत कर की खुदकुशी

बुरी तरह घायल एक बहन बची, इलाज जारी

1
617
मुम्बर्इ। थाणे में आरोपी के घर के बाहर जमा भीड़।

न्यूज चक्र @ मुम्बई

मुम्बई के थाणे इलाके में एक युवक ने शनिवार देर रात अपने ही परिवार के 13 सदस्यों की निर्मम तरीके से गला रेत कर हत्या कर दी। बाद में खुद ने भी फंदा लगाकर जान दे दी। जिसने भी इस वारदात के बारे में सुना वह सन्न रह गया और उसके रौंगटे खड़े हो गए। इस वारदात में बुरी तरह घायल हुई आरोपी की एक बहन बच गई। उसका अस्पताल में इलाज जारी है। इस घटना के कारणों का पता नहीं चल सका है। मरने वालों में सात बच्चे भी शामिल हैंं।

थाणे के ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर आशुतोष डुमरे ने बताया कि हसनैन वडेकर (35) ने रात करीब एक बजे इस वारदात को अंजाम दिया। आरोपी ने पहले अपने सभी परिवारजनों को खाने में कोई नशीली चीज खिलाकर उन्हें बेहोश कर दिया। इसके बाद एक बड़े चाकू से उनके गले रेत दिए।

ऐसे दिया वारदात को अंजाम

पुलिस ने बताया कि हसनैन वडेकर नवीं मुंबई की एक प्राइवेट कम्पनी में काम करता था। शनिवार रात उसने घर पर एक पार्टी का आयोजन किया। इसमें परिवार के सभी सदस्यों को बुलाया। पार्टी में हसनैन के माता-पिता, बहनें और बच्चे शामिल हुए थे। पुलिस का अनुमान है कि आरोपी ने खाने में नशीला पदार्थ मिला दिया था। इसे खाने से सब बेहोश हो गए तो उनका गला रेत दिया। इनमें हसनैन की बच्ची भी शामिल है। मृतकों में एक बच्ची तो मात्र दो माह की है। इस वारदात को अंजाम देने के बाद हसनैन ने खुद फांसी लगा ली। उसके पड़ोसियों का कहना है कि उन्होंंने किसी के भी चीखने चिल्लाने की आवाज नहीं सुनी। इसीलिए यह आशंका जतार्इ जा रही है कि सभी को खाने में नशीला या जहरीला पदार्थ खिला दिया गया होगा।

धार्मिक व मिलनसार प्रवृति का था हसनैन

हसनैन के पास-पड़ौसियों व रिश्तेदारों को समझ ही नहीं आ रहा है कि हसनैन ने आखिर इस वारदात को अंजाम क्यों दिया। वह काफी धार्मिक प्रवृति का था। नियम से नमाज अता करता था। साथ ही घर पर आने वाले हर व्यक्ति की अच्छी आवभगत भी करता था। घर-परिवार में किसी भी प्रकार का झगड़ा या तनाव भी नहीं था। आर्थिक स्थिति भी ठीक थी। यही बात पुलिस से वारदात में बची आरोपी की बहन ने भी कही है। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम करवा लिया है। मामले की जांच की जा रही है।