जेएनयू विवाद: सुप्रीम कोर्ट से हाईकोर्ट पहुंचे कन्हैया के वकील,दाखिल कर वापस ली जमानत अर्जी

3
280

न्यूज चक्र @ नई दिल्ली

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की जमानत के लिए शुक्रवार को पहले हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की गई । मगर कुछ ही देर बाद कुछ दस्तावेज और लगाने के लिए उसे वापस ले लिया गया | इस पर अब मंगलवार को सुनवाई होगी | कन्हैया पर जेएनयू परिसर में हुई देश विरोधी नारेबाजी के मामले में देशद्रोह का आरोप दर्ज है | सुप्रीम कोर्ट द्वारा जमानत की अर्जी ठुकराए जाने के बाद कन्हैया के वकील हाईकोर्ट पहुंचे थे। सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार हाईकोर्ट को इस मामले में प्राथमिकता के आधार पर सुनवाई करनी है |

इस बीच हाईकोर्ट में सुरक्षा व्यवस्था के लिए भारी संख्या में पुलिस जाब्ता तैनात कर दिया गया था। पहले कन्हैया की ओर से जमानत याचिका सुप्रीम कोर्ट ने दाखिल की गई थी। मगर वहां से इस मामले में सुनवाई से इनकार करते हुए पहले दिल्ली हाईकोर्ट जाने को कहा गया। न्यायमूर्ति जस्ती चेलमेश्वर और न्यायमूर्ति अभय मनोहर सप्रे की खंडपीठ ने कन्हैया की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सोली सोराबजी और राजू रामचंद्रन की दलीलें सुनने के बाद कहा कि शीर्ष अदालत यदि सीधे इस मामले में हस्तक्षेप करती है तो यह संदेश जाएगा कि अन्य अदालतें न्यायिक जवाबदेही निभा पाने में सक्षम नहीं हैं।

पटियाला कोर्ट की जगह हाईकोर्ट जाएं जमानत लेने

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पटियाला हाउस कोर्ट की स्थिति बेहतर नहीं है। इसलिए याचिकाकर्ता जमानत के लिए वहां जाने के बजाय दिल्ली हाईकोर्ट जाए। साथ ही हाईकोर्ट को कन्हैया कुमार की जमानत याचिका का शीघ्र निपटारा करने के भी निर्देश दिए। अदालत कक्ष में संबद्ध पक्षों के वकीलों को प्रवेश मिलेगा। मगर पत्रकारों तथा अन्य लोगों के मामले में संबंधित रजिस्ट्रार जनरल को निर्देशित नियमों का पालन करना होगा।