आपसी रंजिश में मौत पर राजनीति: आमसभा में जमकर बरसे कांग्रेसी

गोली लगने से मरे आदिवासी युवक का शव तीसरे दिन भी मोर्चरी से नहीं उठाया गया, परिजन बीस लाख रुपए के मुआवजे व पत्नी को नौकरी देने की मांग पर अड़े, सैकड़ों आदिवासी अपनी मांग को लेकर पहुंचे जिला मुख्यालय

31
737

न्यूज चक्र @ सिरोही

ईसरा गांव में गुरुवार को फायरिंग के दौरान गोली लगने से मरे आदिवासी युवक का शव शनिवार दोपहर तक भी नहीं उठाया गया। मृतक के परिजन 20 लाख रुपए का मुआवजा और पत्नी को नौकरी देने की मांग को लेकर ईसरा बस स्टैंड पर धरना देने के बाद शाम को सरजावाव दरवाजे पर आयोजित कांग्रेस के प्रदर्शन में शामिल हुए। इनमें बड़ी संख्या में आदिवासी भी शामिल थे। रात आठ बजे समाचार लिखे जाने तक भी मौके पर पूर्व विधायक संयम लोढ़ा अन्य कांग्रेस पदाधिकारियों के साथ मंच पर मौजूद थे।
शिवगंज प्रधान जीवाराम आर्य सहित कांग्रेस नेता हमीद कुरैशी, गुमानसिंह देवड़ा, महिला मोर्चा की अध्यक्ष हेमलता शर्मा, पूर्व पालिका अध्यक्ष अश्विन गर्ग व आदिवासी समाज के अध्यक्ष निबाराम गरासिया ने आमसभा को संबोधित करते हुए मृतक परिवार को मुआवजा देने की मांग की। साथ ही जिले की विभिन्न समस्याओं पर जमकर बरसे।

एससी-एसटी एक्ट में कार्रवाई पर सवाल

धरने को संबोधित करते हुए कांग्रेसी नेताओं ने इस प्रकरण में एससी-एसटी एक्ट में मामला दर्ज होने को गलत बताया। सिरोही कांग्रेस उपाध्यक्ष जोगाराम मेघवाल ने संयम लोढ़ा की ओर से राज्य स्तरीय अधिकारी को भेजे गए सन्देश को पढ़कर सुनाया। इसमें लोढ़ा ने लिखा था कि इस मामले में जिस तरह एससी-एसटी एक्ट में कार्रवाई की गई, उससे जिला प्रशासन खुद कठघरे में है। इसमें आगे कहा गया है कि गोली चलाने वाला और मृतक दोनों एक दूसरे की जाति से अनभिज्ञ थे। ऐसे में एससी-एसटी एक्ट में मामला दर्ज करने से न्यायलय में इस केस को साबित नहीं किया जा सकेगा। मृतक का शव स्वरूपगंज मोर्चरी में रखा है।

यहां उल्लेखनीय है कि एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करके मृतक के परिजनों के लिए नियमानुसार 7.5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा विधायक समाराम गरासिया शुक्रवार को ही कर आए थे। लेकिन परिजन 20 लाख रुपए के मुआवजे की मांग पर अड़े हुए हैं।
रात तक जारी इस धरने के साथ मौके पर एएसपी प्रेरणा शेखावत, डीएसपी देवाराम चौधरी,तहसीलदार वीरेन्द्र सिंह भाटी व एसडीएम ओपी विश्नोई भारी संख्या में पुलिस जाप्ते के साथ तैनात थे । सभी प्रमुख मार्गों पर बेरीकेटिंग लगाकर यातायात रोक दिया गया था। जिला कलेक्टर वी सरवन कुमार व एसपी एसएस चौहान हालात पर निगाह रखे हुए थे।