जेसीआई कोटा की नई कार्यकारिणी ने ली शपथ, आगामी कार्यक्रम घोषित

3
1312

न्यूज चक्र @ कोटा

जेसीआई कोटा का पदस्थापना समारोह रविवार को माहेश्वरी रिसोर्ट में आयोजित किया गया। इस अवसर पर 4० सदस्यीय नई कार्यकारिणी ने शपथ ग्रहण की। निवर्तमान अध्यक्ष महावीर चौरड़िया ने नवनियुक्त अध्यक्ष विनय शर्मा को शपथ दिलाई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मंगलम सीमेंट लिमिटेड के प्रेसीडेंट एसएस जैन थे। केरियर पॉइंट के प्रमोद माहेश्वरी व मंडल अध्यक्ष नितेश सेठिया अतिथि के रूप में मौजूद थे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि जैन ने कहा कि सामाजिक, सांस्कृतिक और गैर सरकारी संगठन विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से समाज के वंचित लोगों तक राहत पहुंचाने का काम कर रहे हैं। देश के गरीब तबके को मुख्य धारा में लाने का काम सभी को मिलकर करना है। सरकारी योजनाओं को वंचित वर्ग तक पहुंचाने में एनजीओ की भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है।

नवनियुक्त अध्यक्ष विनय शर्मा ने कहा कि समाज सेवा और व्यक्तित्व विकास के क्षेत्र में अधिक तेजी से कार्य किया जाएगा। ऐसे क्षेत्रों में कार्य करते हुए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में नाम दर्ज कराने का लक्ष्य है। प्रमोद माहेश्वरी ने कहा कि युवाओं को स्वच्छ भारत अभियान में अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी चाहिए। जागरुकता के कार्यक्रम हाथ में लेकर युवा इन्हें आगे बढ़ा सकते हैं।

विशिष्ट अतिथि मंडल अध्यक्ष नितेश सेठिया ने कहा कि जेसीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर महिला को निर्वाचित किया गया है। ऐसे में जेसीआई की ओर से महिला सशक्तिकरण के उद्देश्य को आगे बढ़ाना होगा। उपाध्यक्ष पंकज लड्ढा ने कहा कि नए वर्ष में फेलोशिप के नए आयाम स्थापित किए जाएंगे। सभी लोगों को मिलकर सेवा कार्यों के लिए प्रतिबद्धता दर्शानी होगी। जेसीआई कोटा के सदस्य बड़े से बड़े प्रोजेक्ट को मिलकर पूरा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विजन के अनुसार नए युवा उद्यमियों में स्टार्ट अप के लिए युवाओं को प्रेरित करने के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इसके लिए युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। पीयूष खण्डेलवाल ने बताया कि इस वर्ष के दौरान बिजनेस मेलों का आयोजन किया जाएगा। इन्हें मेक इन इंडिया की थीम पर होंगे। कार्यक्रम का संचालन अंकित सिंघवी व श्वेता सोनी ने किया। अंत में सचिव अक्षय मालवीय व कन्हैया शर्मा ने आभार जताया। पूर्व अध्यक्षों ने आगामी टीम का शुभकामनाएं दी।