चीन की मंदी से विश्व को क्रूड ऑयल की कीमत में आई गिरावट ने संभाला

6
283

निवेशक जागरुकता कार्यक्रम में मुख्य वक्ता फाइनेंसर प्लानर पंकज लड्ढा ने कहा

न्यूज चक्र @ कोटा

फाइनेंसर प्लानर पंकज लड्ढा ने कहा कि निवेशक अक्सर पूछता है कि कब लेना है और क्या लेना है। जबकि निवेशक को यह जानना चाहिए कि उसे कितना और कितने समय के लिए निवेश करना है। चीन के बाजारों में आई मंदी से विश्वभर के श्ोयर बाजारों में घबराहट है। इस बीच कच्चे तेल की कीमत में आई भारी गिरावट ने अर्थव्यवस्था को संभाल लिया है। वह भारत विकास परिषद की विवेकानन्द शाखा की ओर से तलवंडी स्थित एक रेस्टोरेंट में आयोजित निवेशक जागरुकता कार्यक्रम को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थ्ो। इस अवसर पर भारत विकास परिषद के अध्यक्ष श्याम शर्मा मुख्य अतिथि थे।

मुख्य वक्ता लड्ढा ने आगे कहा कि चीन के बाजारों में छाई मंदी से विश्वभर के शेयर बाजारों में अफरा-तफरी का माहौल है। इसके चलते हमारे निवेशकों को भी करीब बीस लाख रुपए का नुकसान हो चुका है। लेकिन सरकार और उद्योगपति मिलकर देश का जितना भला नहीं कर सकते हैं, उससे कहीं अधिक भला कच्चे तेल में की कीमत में आई मंदी ने कर दिया। भारत विकास परिषद के अध्यक्ष श्याम शर्मा ने कहा कि अस्पताल और एनजीओ भी एफडी की जगह म्युचुअल फंड में निवेश करें तो गारंटेड रिटर्न मिल सकता है।

प्रान्तीय अध्यक्ष राजकुमार गुप्ता ने कहा कि हमारे देश मंे हर आठ वर्ष में मंदी आती है। उसी क्रम में वर्तमान वर्ष मंे भी बाजार निम्नता की ओर से जा सकता है। परिषद की ओर से राधेयाम खंडेलवाल ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि निवेशक को उचित सलाह लेकर ही निवेश करना चाहिए।
आईसीआईसीआई के रीजनल हेड रणवीर सिंह ने कहा कि आईसीआईसीआई दूसरे नम्बर की एसेट मैनेजमेंट कंपनी है। कार्यक्रम में आईसीआईसीआई के म्युचुअल फंड के प्रोडक्ट हेड अभिषेक सिनवाल, ब्रान्च हेड सोमेश भारद्बाज, अरविंद गोयल, ओम विजय आदि भी मौजूद थ्ो।