वैष्णव युवक-युवती परिचय सम्मेलन: 460 ने दिया परिचय

0
1846

समाज की 51 निर्धन महिलाओं को सिलाई मशीनें व 2500 लोगों को नजर के चश्मों का वितरण किया

न्यूज चक्र @ कोटा

वैष्णव ब्राह्मण सेवा संस्थान की ओर से युवक-युवती परिचय सम्मेलन रविवार को विज्ञान नगर स्थित वैष्णव बैरागी छात्रावास में आयोजित किया गया। इसमें 245 युवकों तथा 215 युवतियों ने मंच से परिचय दिया। वहीं कुछ युवक-युवतियों के अभिभावक ही उनके बायोडाटा लेकर आए। इस अवसर पर समाज की 51 निर्धन महिलाओं को सिलाई मशीनें भेंट की गई। वहीं निशुल्क नेत्र जांच शिविर में मुम्बई से आए डॉ. इन्द्रकुमार वैष्णव ने आंखों की जांच की। इसका 4773 लोगों ने लाभ लिया। इनमें से 2500 लोगों को चश्मे वितरित किए गए।

परिचय सम्मेलन मंे काशी मठ के जगद्गुरू रामनरेशाचार्य महाराज, वैष्णव विकास परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंती भाई बी वैष्णव, वैष्णव विकास ट्रस्ट मुम्बई के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचन्द्र वैष्णव, महासचिव लखनदास, विधायक प्रलाद गुंजल, एनडी निम्बावत, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष इन्द्रजीत वैष्णव, आगरा से केके शर्मा, रमेश वैष्णव, भानुशंकर वैष्णव, संभागीय अध्यक्ष नरेश पद्म व कोषाध्यक्ष बाबूलाल वैष्णव अतिथि के रूप में मौजूद थे। अतिथियों ने परिचय स्मारिका का विमोचन कर इसे वितरण के लिए जारी किया। परिचय स्मारिका में पूर्व में पंजीकृत प्रत्याशियोंके सचित्र बायोडाटा प्रकाशित किए गए थे।

परिचय सम्मेलन में 4 डॉक्टर, 20 इन्जीनियर, व्यवसायी, शिक्षक आदि ने मंच से परिचय दिया। इसमें मध्यप्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़, आगरा, सूरत, इन्दौर आदि स्थानों के समााजबंधुओं ने शिरकत की। 103 तत्काल पंजीयन भी कराए गए। कोषाध्यक्ष बाबूलाल वैष्णव ने मंच पर ही आयोजन का सम्पूर्ण हिसाब प्रस्तुत किया।

काशी मठ के जगद्गुरू रामनरेशाचार्य महाराज ने आशीर्वचन में कहा कि सम्पूर्ण समाज को एक मंच पर आकर हर व्यक्ति के विकास की चिंता करनी चाहिए। लोगों और परिवारों को जाड़ने से ही समाज बनेगा। विभिन्न भ्रांतियां फैलाने से समाज में विभाजन का खतरा पैदा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि जब तक समाज के अंतिम व्यक्ति तक विकास की धारा नहीं पहुंचेगी, तब तक समाज के किसी व्यक्ति को चुप नहीं बैठना चाहिए।

वैष्णव विकास परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंती भाई बी वैष्णव ने कहा कि भगवान राम की मर्यादा के अनुरूप जीवन जीना होगा। समाज को आगे ले जाने के लिए अनुशासन बहुत जरूरी है। अनुशासित समाज ही देश को दिशा दे सकता है। अनुशासन के बिना समाज पंगु हो जाता है। उन्होंने समाज को सेवा से जोड़ने की अपील करते हुए कहा कि भगवान विष्णु ने अपने हर अवतार में समाज की सेवा को महत्व दिया है। हमें भी उसी रास्ते पर आगे बढ़ना चाहिए।

डायबिटिक बालिका को दिया सहयोग

कर्यक्रम में सवाई माधोपुर से अभिभावकों के साथ आई 5 वर्षीय डायबिटिक बालिका वंशिका को समाज की ओर से 31 हजार रुपए की सहायता राशि दी गई। वंशिका को 1200 रुपए की कीमत का इन्सुलिन इंजेक्शन लगवाना पड़ता है। युवा टीम की ओर से क्रिकेट सीरिज आयोजित कर 21 हजार रुपए एकत्र किए गए। यह राशि भी वंशिका को प्रदान की गई।