तीन दिवसीय बूंदी उत्सव के शानदार आगाज के लिए शहर तैयार

    44
    859

    न्यूज चक्र @ बूंदी

    हाड़ौती की शान बूंदी नगरी में पर्यटन उत्सव के आगाज के बीच कुछ ही घंटे बाकी रह गए हैं। शनिवार सुबह साढेè 8 बजे इसका गढ़ की पड़स पर गणेश पूजन व ध्वजारोहण के साथ शुभारम्भ होगा। इसके बाद यहीं से भव्य शोभायात्रा प्रारम्भ होगी। यह शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए पुलिस परेड ग्राउंड पर पहुंच कर सम्पन्न होगी। यहां विभिन्न प्रतियोगिताएं होंगी। हर वर्ष की तरह इस बार भी इस दौरान होने वाले सभी आयोजनों में विदेशी पर्यटकों के भी खासी संख्या में शिरकत करने की उम्मीद है। प्रशासन इसके लिए सारी तैयारियां चाक-चौबंद कर चुका है।
    बूंदी उत्सव के पहले दिन निकलने वाली इस शोभायात्रा में लोक संस्कृति की गौरवशाली परम्परा से शहरवासी रूबरू होंगे। इसमें विभिन्न समाजों के प्रमुख व्यक्ति, जनप्रतिनिधि, अधिकारी तथा धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधि भी पारम्परिक वेशभूषा में शामिल होंगे। विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं की आकर्षक झांकियां, साढेè सात सौ मंगल कलशधारी महिलाएं, खुली जीपें, सजे-धजे हाथी, ऊंट, घोड़े, ऊंट गाड़ियां, बैंड दल, मशक बैंड एवं लोक नृत्य की प्रस्तुतियां देते कलाकार भी इसे और अधिक आकर्षक बनाएंगे।

    परेड ग्राउंड पर होंगी परम्परागत ख्ोलों की प्रतियोगिताएं

    शोभायात्रा के सम्पन्न होने के साथ ही पुलिस परेड ग्राउंड पर 11 बजे से विभिन्न परम्परागत ख्ोलों की प्रतियोगिताएं शुरू हो जाएंगी। इनमें रस्साकसी, मूंछ, साफा बांधना,ऊंट दौड़, पणिहारी दौड़, चम्मच दौड़, जलेबी दौड़, बोरी दौड़, राजस्थानी वेषभूषा आदि प्रतियोगिताएं शामिल होंगी। इसी मैदान पर दोपहर 1 बजे सेना, पुलिस व आरएसी की ओर से सिन्फोनिएटा की आकर्षक प्रस्तुति दी जाएगी।
    कार्यक्रमों की इस सीरीज दोपहर बाद 3 बजे रेडक्रॉस भवन में चित्रकला एवं फोटो प्रदर्शनी की शुरुआत होगी। शाम साढेè चार बजे हायर सैकंडरी स्कूल के मैदान पर शिल्प ग्राम एवं उद्योग मेले का शुभारंभ होगा। साढेè पांच बजे नवल सागर झील में दीपदान किया जाएगा। रात आठ बजे ऐतिहासिक 84 खंभों की छतरी पर भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम दर्शकों के आकर्षण का केन्द्ग रहेगा।

    संरक्षित स्मारकों में नि:शुल्क रहेगा प्रवेश

    बूंदी उत्सव के दौरान पुरातत्व विभाग द्बारा संरक्षित स्मारकों रानी जी बावड़ी, 84 खंभों की छतरी व सुखमहल में देशी-विदेशी सभी पर्यटकों के लिए प्रवेश नि:शुल्क रहेगा। संग्रहालय एवं पुरातत्व विभाग के वृत्त अधीक्षक उमराव सिंह ने बताया कि उत्सव के दौरान 28 से 3० नवंबर तक यह सुविधा रहेगी।
    जिलेभर में दिखेंगे उत्सवी रंग
    बूंदी उत्सव के तहत जिले के उपखण्ड मुख्यालयों सहित अन्य स्थानों पर भी उत्सवी रंग देखने को मिलेंगे। इस दौरान इन्द्गगढ़ में पहले दिन शनिवार को ही दोपहर 12 बजे से खेल मैदान पर ग्रामीण खेल प्रतियोगिताओं का शुभारंभ होगा। दोपहर 2 बजे नगरपालिका परिसर में राजस्थानी वेशभूषा प्रतियोगिता, शाम 5.3० बजे इन्द्गाणी तालाब में दीपदान तथा रात आठ बजे से नगर पालिका परिसर में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होगा। वहीं तलवास के रतन सागर में भी शाम साढेè पांच बजे दीपदान होगा।