आसानी से प्रभावी संदेश देते हैं कार्टून और केरिकेचर

3
458

राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर हुई संगोष्ठी

न्यूज चक्र @ कोटा

प्रेस दिवस के मौके पर सोमवार को सूचना केन्द्र में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसका विषय -विचारों की अभिव्यक्ति में कार्टून एवं केरिकेचर्स की भूमिका था।
संगोष्ठी में गवर्नमेंट कॉलेज के पूर्व प्राचार्य डॉ. लक्ष्मीकान्त दाधीच ने कहा कि मीडिया की समाज में प्रभावशाली भूमिका सर्वविदित है। इसमें कार्टून और केरिकेचर के जरिये की जाने वाली विचाराभिव्यक्ति चमत्कारिक व्यवस्था जैसी है। इसे देखते ही संदेश मन में गहरे उतर जाता है। यह विधा दर्पण की तरह सत्य से साक्षात्कार करा देती है।
पूर्व संयुक्त निदेशक, सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग डॉ. प्रभात कुमार सिघल ने कहा कि चित्रों या प्रतीकों से बात कहने या विचार व्यक्त करने का चलन प्रागैतिहासिक काल से चला आ रहा है। मनुष्य द्बारा विभिन्न प्रतीकों या चित्रों के माध्यम से विचाराभिव्यक्ति की परम्परा शैल चित्रों के रूप में भी देखने को मिलती है। यह एक ऐसा माध्यम है जो परिवर्तन का सशक्त वाहक बन सकता है। सरकार की विभिन्न योजनाओं और कुरीतियों के निवारण में कार्टून विधा सशक्त भूमिका निभा सकती है। पत्रकार अभिनन्दन लड्ढा ने कहा कि कार्टून की अहमियत को देखते हुए ही मीडिया में इसे प्रमुख स्थान प्राप्त है। इस विधा में गागर में सागर समाने जैसी खूबी है। जसवंत सिह तंवर, सीएडी के अभियंता प्रणव मजूमदार व सूचना केन्द्र में आने वाले पाठकों ने भी इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए कहा कि कार्टून एवं केरिकेचर के माध्यम से क्षण भर में विचारों का आदान-प्रदान हो जाता है। वह भी प्रभावी तरीके से। अनवार अहमद ने कहा कि बिना पढेè ही इनका संदेश हमारे मन में गहरे पैठ कर जाता है। अखलाक हुसैन ने कहा कि इस विधा को मीडिया में प्रमुख स्थान दिया जाना चाहिए। मोहम्मद आलम ने कहा कि कार्टून स्पष्ट दृष्टिकोण व्यक्त करते हैं, जो प्रभावी होता है। संगोष्ठी के आरम्भ में सहायक जनसम्पर्क अधिकारी रचना शर्मा ने आगंतुकों का स्वागत करते हुए विषय की जानकारी दी। अंत में सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय के राजेन्द्र सिह हाड़ा ने सभी का आभार जताया।

स्मार्ट सिटी पुस्तिका का विमोचन

प्रेस दिवस के अवसर पर सूचना केन्द्र में स्मार्ट सिटी विषयक पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। पूर्व प्राचार्य एवं पर्यावरण विद डॉ. लक्ष्मीकान्त दाधीच लिखित इस पुस्तिका में स्मार्ट सिटी से जुड़े विभिन्न पहलुओं, स्तम्भांे और सुझावों को शामिल किया गया है।