एमएलए बनने के लिए संघर्ष, त्याग व सेवा जरूरी – राजावत

3
565

कार्यकर्ताओं को दी सुविधाभोगी राजनीति छोड़ने की नसीहत

न्यूज चक्र @ कोटा

विधायक भवानीसिंह राजावत ने कहा कि विरासत में मिली राजनीति के कुछ अपवादों को छोड़कर देश के अधिकतर बड़े राजनेताओं और महापुरुषों को लम्बे संघर्ष के बाद ही सफलता मिली है। आज चमक-धमक वाला और घर बैठे मोबाइल से सुविधाभोगी राजनीति करने वाला कार्यकताã यह भ्रम पाल बैठता है कि मैं नेता हो गया। मुझे पार्टी टिकिट दे देगी। जनता स्वीकार कर लेगी। लेकिन ऐसे स्वयंभू लोगों को न तो पार्टी टिकिट देती है और न ही जनता ही सिर पर बैठाती है। राजावत उद्योग नगर मंडल के राजनीतिक चेतना सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थ्ो।
राजावत ने आगे कहा कि दाऊदयाल जोशी, कृष्ण कुमार गोयल, रघुवीर सिंह कौशल, ललित किशोर चतुर्वेदी, हरिकुमार औदिच्य सभी को 25-25 साल के संघर्ष के बाद ही पार्टी ने टिकिट का सम्मान दिया। ऐसे में वर्तमान पीढèी के कार्यकर्ताओं को सुविधाभोगी राजनीति को छोड़ना होगा । इस बात की गांठ बांधनी होगी कि संघर्ष, त्याग और सेवा के बगैर जीवन में कभी सफलता हासिल नहीं हो सकती। ऐसा करने वालों को ही पार्टी घर बैठे टिकिट तो क्या हर तरह का सम्मान देती है। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं में यह गलतफहमी पैदा होती जा रही है कि नेता काम नहीं करते या उनकी बात नहीं सुनते। ऐसी अनर्गल बात कहकर वे अपने नेता को ही नहीं जनता के बीच खुद को भी कमजोर कर लेते हैं। उन्हंे समझना चाहिए कि नेता व कार्यकताã एक दूसरे के पूरक होते हैं। नेता तो अपना दायित्व ईमानदारी से निर्वहन कर ले। वहीं कार्यकताã 6-6 महीने तक जनता के बीच जाए ही नहीं। अपना धर्म निभाए ही नहीं, तो सरकार व संगठन कैसे मजबूत होगा।
विधायक ने कहा कि राजनीति चुनौती व कांटों भरा रास्ता है। आईएएस और आईपीएस की तो जीवन में एक बार ही परीक्षा होती है। मगर जनप्रतिनिधि को रोज परीक्षा देनी होती है। हर 5 साल में जनता उसकी कॉपियां जांच कर नम्बर देती है। ऐसे में यह डगर बहुत कठिन है। राजनीति की रपटीली राहों पर अच्छे-अच्छे लोग फिसल कर गिर जाते हैं। लगातार चुनाव जीतना कारगिल का युद्घ जीतने से कम नहीं है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे जीवन में आगे बढèने का सपना तो देखें, लेकिन उस सपने को साकार करने के लिए कई गुना संघर्ष भी करें।
सम्मेलन को पार्टी के शहर जिलाध्यक्ष हेमन्त विजयवर्गीय, उपमहापौर सुनीता व्यास, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सत्यभान सिंह, पूर्व महामंत्री आलोक शर्मा, शहर जिला मंत्री राकेश मिश्रा, सरपंच अर्जुन सिंह गौड़ व पार्षद कृष्ण मुरारी सामरिया ने भी सम्बोधित किया। संचालन कमलेश गौतम ने किया। इस अवसर पर पार्षद मधुकंवर हाड़ा, शकुन्तला बैरवा, सुरेश मीणा, दौलतराम मेघवाल, पूर्व पार्षद रघुराज सिंह जादौन व संतोष अग्रवाल भी मौजूद थे।