अपना संस्थान द्वारा कोटपूतली में लगाई रसोई की बगिया

अपना संस्थान द्वारा कोटपूतली में लगाई रसोई की बगिया

स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत के सपने को साकार करने में जुटा अपना संस्थान

न्यूज़ चक्र, कोटपूतली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पर्यावरण गतिविधि एवं स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत की परिकल्पना को साकार करते हुए अमृता देवी पर्यावरण नागरिक (अपना) संस्थान की ओर से कोटपूतली में पहली ‘रसोई की बगिया’ महेश कुमार गोयल के घर लगाई गई।

इस अवसर पर भाजपा विधानसभा प्रभारी मुकेश गोयल, अपना संस्थान के प्रान्त संयोजक अशोक कुमार शर्मा, हनुमान प्रसाद शर्मा, डॉ. कृष्ण गोपाल शर्मा, मनोज शर्मा समेत अन्य मौजुद थे। गोयल ने क्षेत्र के सभी नागरिकों को इस अभियान से जुड़ने का आह्वान किया।

अपना संस्थान की ओर से समाज में जागरूकता लाने व स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत अभियान को जनव्यापी बनाने के लिए रसोई की बगिया कार्यक्रम चलाया जा रहा है। कार्यक्रम के अन्तर्गत रसोई घर से निकलने वाले गीले व सूखे कचरे का उपयोग कर औषधीय, फलदार एवं फूलदार पौधे लगाये जाते है। बगिया तैयार करने से पहले एक लौहे या प्लास्टिक का ड्रम लिया जाता है। उस ड्रम के चारों ओर आठ बड़े होल किये जाते है। ड्रम में पहले रसोई से निकलने वाला सूखा कचरा जैसे नारियल के जूट, गन्ने के छिलके आदि डाले जाते है। उसके बाद नीचे बनाये गये होल (छेद) में फल या फूलदार पौधे लगाये जाते है उसके बाद उन पर मिट्टी डाली जाती है। फिर सूखा कचरा डाला जाता है। उसके बाद अगले होल (छेद) में पुनः पौधे लगाये जाते है।

इस तरह ड्रम के चारों ओर तैयार किये गये आठ होल में आठ पौधे रोपित किये जाते है। ड्रम में थोड़ी सी केंचुए की खाद डाल दी जाती है। उसके बाद बालू रेत डालकर एक सीधा फलदार पौधा रोपित किया जाता है। सभी पौधे रोपित होने के बाद ड्रम में रसोई घर से निकलने वाले गीले कचरे को डाला जाता है। गीले कचरे से निकलने वाला जल पहले मिट्टी फिर सूखे कचरे से होता हुआ नीचे तक पहॅुच जाता है तथा केंचुए भी भोजन प्राप्त कर खाद बना लेते है। इस तरह यह कार्यक्रम पर्यावरण स्वच्छता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

 50 total views,  1 views today

कोटपूतली